JOA-IT का छलका दर्द:पोस्ट-कोड 817 के अभ्यर्थियों ने जल्द मांगी नियुक्ति; सरकार पर गंभीरता से नहीं लेने का आरोप

शिमला4 महीने पहले
JOA-IT शिमला में पत्रकार वार्ता करते हुए।

हिमाचल प्रदेश में जूनियर ऑफिस असिस्टेंट (JOA-IT) ने जल्द नियुक्त देने की गुहार लगाई। शिमला में बुधवार को आयोजित प्रेस वार्ता में JOA-IT परीक्षार्थी अमन ने पोस्ट कोड 817 की भर्ती प्रक्रिया को जल्द पूरा करने की मांग की।

उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य सरकार मामले को गंभीरता से नहीं ले रही। इस वजह से 19 हजार बेरोजगारों का भविष्य दाव पर लटका हुआ है। पोस्ट कोड 817 JOA-IT की भर्ती प्रक्रिया 2018 में शुरू हो गई थी। यह प्रक्रिया अब तक पूरी नहीं हो पाई है। इससे JOA-IT परीक्षा देने वाले बेरोजगार मानसिक रूप से परेशान हो रहे हैं।

अमन ने बताया कि यदि सरकार उनकी इस मांग को गंभीरता से नहीं लेती है तो उन्हें चुनाव में मजबूरन BJP के खिलाफ वोट देना पड़ेगा। उन्होंने सरकार पर आरोप लगाया कि अब तक सरकार ने इस मामले को सकारात्मक ढंग से अदालत में नहीं उठाया है। यही वजह है कि यह मामला अभी भी सर्वोच्च न्यायालय में विचाराधीन है।

बार-बार मिल रहे आश्वासन

JOA अभ्यर्थियों ने बताया कि वह एक-दो नहीं बल्कि अनेक बार मुख्यमंत्री, मंत्रियों और विभिन्न अधिकारियों से मिल चुके हैं। हर बार उन्हें इस मामले को जल्द निपटाने के लॉलीपोप दिए जा रहे हैं।

तीन बार निकाली भर्ती, एक भी बार पूरी नहीं

जयराम सरकार में तीन बार JOA-IT की भर्ती विज्ञापित की गईं। एक भी बार की भर्ती प्रक्रिया पूरी नहीं हो पाई। लिहाजा सरकार के चार साल के अधिक के कार्यकाल में एक भी JOA-IT को नौकरी नहीं मिल पाई है। इससे युवा परेशान है और नौकरी की बाट जोह रहा है।