पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हिमाचल सरकार के साथ 25 सितंबर को JCC की बैठक:CM जयराम ठाकुर के कार्यकाल में पहली मीटिंग; अश्वनी ठाकुर करेंगे कर्मियों का प्रतिनिधित्व, सेवा काल कम होने की उम्मीद

शिमला13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर का फाइल फोटो।

हिमाचल प्रदेश सरकार के साथ कर्मचारियों की संयुक्त सलाहकार समिति की बैठक 25 सितंबर को होगी। सरकार की ओर से मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर इस बैठक की अध्यक्षता करेंगे। वहीं कर्मियों का प्रतिनिधित्व अश्वनी ठाकुर करेंगे। प्रदेश के पौने तीन लाख सरकारी कर्मचारियों को सरकार से बड़ी सौगात मिलने की उम्मीद है। मौजूदा समय में सरकार के साथ जेसीसी की पहली बैठक हो रही है और सरकार ने हाल ही में अश्वनी ठाकुर गुट को मान्यता दी है। इसलिए उनके साथ यह पहली बैठक आयोजित की जा रही है।

बैठक में कर्मचारियों के लिए छठे वेतन आयोग की रिपोर्ट लागू करने की घोषणा हो सकती है। पंजाब की तर्ज पर ऐसा होगा, क्योंकि हिमाचल में पंजाब पैटर्न को ही फॉलो किया जाता है। पंजाब सरकार अपने कर्मचारियों के छठे वेतन आयोग की रिपोर्ट लागू कर चुकी है। ऐसे में 25 सितंबर को होने वाली जेसीसी की बैठक में इसको लागू किया जा सकता है।

गौरतलब है कि हिमाचल में अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ कई गुटों में बटा हुआ है, लेकिन सरकार ने अश्वनी ठाकुर को मान्यता दी है। ऐसे में कर्मचारी यह कयास लगा रहे हैं कि जब सरकार ने अश्वनी ठाकुर को मान्यता दी है तो उनकी मांगें भी जरूर पूरी होगी। बहरहाल देखना यह है कि सरकार कर्मचारियों की किन मांगों को मानती है और किन मांगों को लंबित रखती है, क्योंकि महासंघ की ओर से सरकार को मांगों का एजेंडा भी दे दिया गया है

अनुबंध सेवाकाल में भी कमी होने की संभावना

हिमाचल प्रदेश में सरकारी सेवाओं में लगने के बाद कर्मचारी एकदम रेगुलर नहीं होता। 3 साल तक अनुबंध आधार पर सेवाएं देने के बाद ही उक्त कर्मचारी की सेवाएं रेगुलर होती हैं। ऐसे में लंबे समय से कर्मचारी मांग कर रहे हैं कि अनुबंध काल को 2 साल का किया जाना चाहिए। जेसीसी की बैठक में इस सेवाकाल को भी घटाया जा सकता है और देय डीए की घोषणा भी हो सकती है। वहीं एनपीएस कर्मचारियों के लिए 2009 की अधिसूचना लागू करने के बारे में भी फैसला लिया जा सकता है।

हिमाचल में चुनाव को रह गया है केवल 1 साल

गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं और राज्य में हमेशा ही ऐसा देखा गया है कि जिस तरफ सरकारी कर्मचारियों का रुझान होता है, सरकार उसी की बनती है। ऐसे में जयराम सरकार चौथे साल जेसीसी की बैठक बुला रही है, ताकि कर्मचारियों की नाराजगी को कुछ दूर किया जा सके। पिछली बार जब हिमाचल में वीरभद्र सरकार थी, तब भी केवल एक ही बार जेसीसी की बैठक हुई थी और तब भी कर्मचारी खासे नाराज थे। जिसकी बदौलत कांग्रेस सरकार सत्ता से चली गई और भाजपा सरकार आई।

बैठक होगी ऐतिहासिक, मिलेंगी कई सौगातें

महासंघ के प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी ठाकुर ने 25 सितंबर को जेसीसी की बैठक होने की पुष्टि हुई है। यह बैठक ऐतिहासिक होगी और इसमें कई सौगातें मिलेगी। वर्तमान सरकार कर्मचारी हितैषी है। मुख्यमंत्री कर्मचारियों की प्रमुख मांगों को पूरी करेंगे। बैठक में जिलों से चुने हुए पदाधिकारी भी शामिल होंगे।

खबरें और भी हैं...