पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बढ़ती लापरवाही:आईजीएमसी में काेराेना निगेटिव रिपाेर्ट के बिना नहीं हाेंगे एमआरआई, सीटी स्कैन, एंडाेस्काेपी टेस्ट

शिमला10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आईजीएमसी में रोज पर्ची काउंटर के होते हैं ये हाल - Dainik Bhaskar
आईजीएमसी में रोज पर्ची काउंटर के होते हैं ये हाल
  • बढ़ते मरीजाें काे लेकर प्रशासन ने किया जरूरी, पहले सिर्फ हो रहे थे भर्ती मरीजों के टेस्ट

आईजीएमसी में मरीजाें काे अगर एंडाेस्काेपी, सीटी स्कैन, एमआरआई, ईकाे टेस्ट करवाना है ताे उन्हें पहले यहां पर काेराेना टेस्ट करवाना हाेगा। अगर मरीज की रिपाेर्ट निगेटिव आती है ताे ही उनके टेस्ट किए जाएंगे। लगातार बढ़ते मरीजाें काे देखते हुए आईजीएमसी प्रशासन ने यह व्यवस्था शुरू कर दी है।

अब हर मरीज काे टेस्ट करवाने से पहले अपनी काेराेना निगेटिव रिपाेर्ट विभाग काे दिखानी हाेगी, उसके बाद ही मरीज के टेस्ट किए जाएंगे। ऐसे में अगर काेई मरीज यह चाहता है कि वह इमरजेंसी में आईजीएमसी में अपना काेई टेस्ट करवा लेगा ताे यह नहीं हाे पाएगा। क्याेंकि उसे यहां पर पहले अपना काेराेना टेस्ट करवाना हाेगा। इसमें मरीज काे एक दिन रिपाेर्ट लेने में लगेगा।

फिर दूसरे दिन ही मरीज का टेस्ट रिपाेर्ट निगेटिव आने के बाद हाे पाएगा। हालांकि अगर रिपाेर्ट पाॅजिटिव आती है ताे मरीज का टेस्ट नहीं किया जाएगा क्याेंकि इससे फिर अन्य मरीजाें के लिए परेशानी खड़ी हाे जाएगी। आईजीएमसी में इससे पहले केवल उन्हीं मरीजाें की काेराेना रिपाेर्ट जरूरी की गई थी।

जाे आईजीएमसी में एडमिट किए जाते थे। एडमिट हाेने के बाद प्रशासन खुद मरीजाें का काेराेना टेस्ट करवाता था, फिर मरीज का इलाज तब तक शुरू नहीं हाे पाता था, जब तक मरीज की रिपाेर्ट नहीं आ जाती थी। अगर मरीज पाॅजिटिव आता है ताे उसे आइसाेलेशन वार्ड में भेज दिया जाता है।

अगर उसकी रिपाेर्ट निगेटिव आती है ताे संबंधित विभाग में इलाज के लिए एडमिट किया जाता है। वहीं जाे मरीज ओपीडी में चेक के लिए आते हैं, उनकी यहां पर काेई काेविड जांच नहीं हाेती थी। हालांकि संबंधित मरीजाें काे फ्लू ओपीडी में भेजा जाता था। मगर अब टेस्ट के लिए अगर मरीज काे ओपीडी से भी लिखा जाता है ताे उसे पहले काेराेना की निगेटिव रिपाेर्ट दिखानी जरूरी है।

ये भीड़ कम करो...ना...आईजीएमसी में रोज पर्ची काउंटर के होते हैं ये हाल

आईजीएमसी में काेराेना के दाैरान साेशल डिस्टेंसिंग रखना मुश्किल है। यहां पर राेजाना सुबह पर्ची काउंटर पर ही लंबी कतारें लग जाती हैं। लाेग पर्चियां बनवाने के लिए ही साेशल डिस्टेंसिंग भूल जाते हैं। उसके बाद फीस काउंटर और टेस्ट काउंटर पर भी लाेगाें की काेई साेशल डिस्टेंसिंग नहीं रहती। ऐसे में काेराेना काे राेकना मुश्किल है। कई लाेग ताे मास्क भी नहीं पहनते। जबकि काेराेना संक्रमण का सबसे बड़ा खतरा अस्पतालाें में ही रहता है। क्याेंकि यहां पर काेराेना के मरीज भी जांच के लिए आते हैं।

राेजाना हाेते हैं कई टेस्ट

आईजीएमसी में एमआरआई, सीटी स्कैन, एंजियाेग्राफी, एंडाेस्काेपी, ईकाे समेत कई बड़े टेस्ट हैं जिसमें राेजाना 200 से 250 लाेग अपना टेस्ट करवाते हैं। ऐसे में अब नई व्यवस्था से इन मरीजाें के लिए दिक्कतें आएंगी। हालांकि सीटी स्कैन एमआरआई समेत इन सभी टेस्टाें के लिए डाॅक्टर पहले ही डेट दे देते हैं।

ऐसे में डाॅक्टर मरीज काे पहले ही बता देते हैं कि वह अपनी नई काेराेना रिपाेर्ट साथ लाएं। मगर कई बार दूर दराज से आए मरीजाें काे यहां पर एक ही दिन में अगर टेस्ट करवाना हाे ताे उनके लिए परेशानी खड़ी हाे गई है। उन्हें पहले यहां पर टेस्ट करवाना हाेगा, फिर एक दिन रिपाेर्ट का इंतजार करके अगर रिपाेर्ट निगेटिव आती है ताे अगले दिन वह अपना टेस्ट करवा पाएंगे।

ब्लड टेस्ट में नहीं जरूरी रिपाेर्ट

हालांकि बड़े टेस्ट के लिए काेराेना रिपाेर्ट जरूरी कर दी है, मगर रुटीन के ब्लड टेस्ट में अभी काेराेना टेस्ट जरूरी नहीं किया गया है। आईजीएमसी में राेजाना 1000 के करीब लाेग अपने टेस्ट करवाते हैं, ऐसे में यहां पर अभी तक काेराेना रिपाेर्ट जरूरी नहीं है। केवल जिन मरीजाें काे बुखार, जुकाम और काेराेना के अन्य लक्षण हैं, उन्हें ही फ्लू ओपीडी में पहले काेराेना टेस्ट करवाने के लिए भेजा जाता है ताकि अन्य मरीजाें काे उनकी वजह से काेई परेशानी ना जाए।

आईजीएमसी में एंडाेस्काेपी, एमआरआई, सीटी स्कैन जैसे बड़े टेस्टाें में काेराेना रिपाेर्ट ली जा रही है। ऐसा इसलिए किया गया है कि क्याेंकि एक भी काेराेना मरीज अगर इन टेस्ट करवाने के लिए बिना रिपाेर्ट के पहुंच जाता है और बाद में मरीज का पता चलेगा ताे संक्रमण फैलने का डर ताे रहेगा ही साथ ही मशीनाें काे एक दिन के लिए बंद भी करना पड़ेगा। लाेगाें से अपील है कि वह काेराेना नियमाें का पालन करें ताकि सभी काे सुरक्षित रखा जा सके। -डाॅ. रजनीश पठानिया, प्रिंसिपल, अाईजीएमसी शिमला

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आपका संतुलित तथा सकारात्मक व्यवहार आपको किसी भी शुभ-अशुभ स्थिति में उचित सामंजस्य बनाकर रखने में मदद करेगा। स्थान परिवर्तन संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने के लिए समय अनुकूल है। नेगेटिव - इस...

    और पढ़ें