• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Manish Sisodia Accuses BJP Leaders Of Taking Bribe, Said Jai Ram Government Did A Fleet Of Education, Demand To Give Five Years To AAP, AAP Vs BJP

हिमाचल BJP नेता लेते हैं रिश्वत:शिमला में बोले मनीष सिसोदिया; एक मंत्री के बेटे की 10-10 रिसेप्शन पर उठाए सवाल

9 महीने पहले

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने जयराम सरकार के एक मंत्री पर तीखा हमला किया है। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले मंत्री के बेटे की शादी हुई है। मंत्री बनने से पहले तक वह दो कमरों के मकान में रहता था। मंत्री बनने के बाद बेटे की शादी की दिल्ली से लेकर शिमला तक 10-10 बड़ी बड़ी रिसेप्शन दी जाती है। उन्होंने सवाल किया कि मंत्री के पास इतना पैसा कहा से आया।

उद्योगों का पैसा खा गए भाजपा नेता: सिसोदिया
शिमला में मंगलवार को मनीष सिसोदिया ने कहा कि हिमाचल में थोक में उद्योग स्थापित किए गए लेकिन प्रदेश का विकास नहीं हुआ। क्योंकि उद्योगों का पैसा यदि प्रदेश के विकास पर खर्च किया होता तो सरकार के पास आज स्कूल खोलने के लिए बजट की कमी नहीं होती। उन्होंने आरोप लगाया कि उद्योगों का पैसा भाजपा नेता ले गए हैं।

मनीष सिसोदिया के संवाद कार्यक्रम में मौजूद लोग।
मनीष सिसोदिया के संवाद कार्यक्रम में मौजूद लोग।

AAP को पांच साल देकर देखें

सिसोदिया ने कहा कि हिमाचल की जनता ने कांग्रेस भाजपा को इतने साल दे दिए है। इस बार पांच साल AAP को देकर देखें। प्रदेश के स्कूलों की तस्वीर बदल दी जाएगी। जैसे स्कूल दिल्ली में बनाए गए हैं. हिमाचल में भी वैसे मॉडल स्कूल बनाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि AAP के आने के बाद पहली बार चुनाव में शिक्षा को लेकर बातें होने लगी है।

भाजपा ने शिक्षा का किया बेड़ा गर्ग

दिल्ली के डिप्टी CM ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी ने न केवल हिमाचल बल्कि पूरे देश में शिक्षा का बेड़ा गर्ग कर रखा है। हिमाचल में जयराम सरकार स्कूलों को निरंतर बंद कर रही है, ताकि निचले तबके के लोगों के बच्चे शिक्षा ग्रहण न कर सके।

शिक्षा पर 25% बजट खर्च कर रहा दिल्ली

उन्होंने कहा कि दिल्ली में अरविंद केजरीवाल मॉडल ऑफ गवर्नेंस ने पांच सालों में ही दिल्ली की शिक्षा को बेहतर किया गया है। दिल्ली देश का एकमात्र ऐसा राज्य है जो अपने बजट का 25 फीसदी हिस्सा शिक्षा पर खर्च कर रहा है। दिल्ली में कभी भी शिक्षा के लिए बजट की कमी नहीं पड़ी है। वहीं हिमाचल के सरकारी स्कूलों में शौचालय तक नहीं है। कम से कम महिला शिक्षकों के लिए तो शौचालय बना लेते।
जयराम ने किया शिक्षा का बेड़ा गर्ग: सिसोदिया

उन्होंने कहा कि जयराम सरकार ने 5 सालों के दौरान शिक्षा को बर्बाद किया है। यही वजह है कि 2015 में सरकारी स्कूलों में 10 लाख बच्चे पढ़ते थे। आज इनकी संख्या 8 लाख रह गई है। दूसरी तरफ दिल्ली है जहां बड़े बड़े प्राइवेट स्कूलों से बच्चे निजी स्कूलों में आ रहे हैं। मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली सरकार ने दुनिया के विकसित देशों के शिक्षण संस्थानों में अपने प्रिंसिपल को भेजकर ट्रेनिंग दिलवाई। इससे दिल्ली के स्कूलों का वातावरण बदला और आज दिल्ली के स्कूल निजी स्कूलों को टक्कर दे रहे हैं।

संवाद कार्यक्रम में मनीष सिसोदिया।
संवाद कार्यक्रम में मनीष सिसोदिया।

इस बार शिक्षा के नाम पर वोट देंगे हिमाचली

सिसोदिया ने कहा कि हिमाचल के 2000 स्कूलों में एक-एक टीचर है। 6000 स्कूल ऐसे हैं जहां केवल दो ही टीचर है। कई स्कूल ऐसे हैं जहां एक शिक्षक पांच-पांच कक्षाओं को पढ़ा रहे हैं। 8000 करोड़ का बजट है। प्राइवेट स्कूल बढ़ रहे हैं। सरकारी स्कूल कम हो रहे हैं और हिमाचल के मुख्यमंत्री प्राइवेट कालेज का इश्तिहार देते हैं। अपने सरकारी स्कूल में प्रिंसिपल नहीं है। उन्होंने कहा कि हिमाचल की जनता ने शिक्षा के नाम पर वोट देने की कसम खा ली है।दे दिए। एक बार आम आदमी पार्टी को पांच साल देकर देख लें।

सरकारी जमीन ठेकेदार को बेचने का बनेगा मुद्दा
एक अभिभावक द्वारा उठाए गए सवाल पर मनीष सिसोदिया ने कहा कि मुख्यमंत्री ने मंडी में सरकारी स्कूल की जमीन कैसे ठेकेदार को बेच दी। इसे मुद्दा बनाया जाएगा।