पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Now At Least Four Trades Will Have To Be Run In Every ITI In Himachal, If Less Than This, ITI Will Be Closed, New System Will Start As Soon As The Institute Opens

हिमाचल में ITI के संचालन के लिए नया नियम:मान्यता लेने के लिए पढ़ाने होंगे कम से कम 4 ट्रेड के कोर्स, गुणवत्तात्मक शिक्षा और रोजगार के नए अवसर देना ही उद्देश्य

शिमला14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हिमाचल प्रदेश में अब आईटीआई के संचालन के लिए नियमों में संशोधन किया गया है। केंद्र से जारी नई गाइडलाइन के अुनसार, अब जिन आईटीआई में चार ट्रेडों में बच्चों को पढ़ाया जाएगा, केवल उन्हीं को सरकार मान्यता देगी। अन्य सभी आईटीआई बंद हो जाएंगी। कोरोना के बाद जैसे ही आईटीआई में पढ़ाई शुरू हो जाएगी, यह व्यवस्था लागू हो जाएगी। नई गाइडलाइन में बिल्कुल साफ है कि अब प्रत्येक आईटीआई प्रबंधन को अपने संस्थान में कम से कम 4-4 कोर्स चलाने ही पड़ेंगे। ऐसा न करने पर उनकी मान्यता रद्द कर दी जाएगा।

गौरतलब है कि हिमाचल प्रदेश में 127 सरकारी और 154 प्राइवेट आईटीआई हैं। 18 हजार के करीब छात्र और छात्राएं जहां विभिन्न ट्रेडों में प्रशिक्षण ले रहे हैं, लेकिन हिमाचल की इन आईटीआई में कुछ ऐसे संस्थान भी हैं, जहां पर केवल एक या दो कोर्स ही चल रहे हैं। इस वजह से आईटीआई में शिक्षा की गुणवत्ता भी कम होती जा रही है और युवाओं को रोजगार भी नहीं मिल रहे हैं। इसी को देखते हुए हिमाचल प्रदेश में आईटीआई के संचालन के नियमों में बदलाव किया गया है। जिनके पास चार ट्रेड नहीं हैं, उन्हें आवेदन करना पड़ेगा।

सरकार दे रही गुणवता पर ध्यान

इस संबंध में हिमाचल प्रदेश के तकनीकी शिक्षा मंत्री डॉ. रामलाल मारर्कंडेय का कहना है कि केंद्र सरकार ने आईटीआई संचालन के नियमों में संशोधन किया है। नई गाइडलाइन के मुताबिक, हर आईटीआई को कम से कम चार ट्रेड चलाने ही होंगे। इससे तकनीकी शिक्षा में गुणवता आएगी और रोजगार के रास्ते खुलेंगे। युवाओं को विकल्प भी मिलेंगे और प्रदेश से बाहर या घर से दूर भी नहीं जाना पड़ेगा।

तकनीकि शिक्षा मंत्री डॉ. रामलाल मारर्कंडेय
तकनीकि शिक्षा मंत्री डॉ. रामलाल मारर्कंडेय

युवाओं को मिलेंगे रोजगार के नए अवसर

तकनीकी शिक्षा विभाग के अधिकारियों का कहना है कि नया नियम लागू होने के बाद युवाओं को रोजगार के ज्यादा अवसर प्राप्त होंगे। हिमाचल में अभी बाहरी राज्यों से आईटीआई प्राप्त छात्रों को नौकरी के लिए लाना पड़ता है। लेकिन अब यहां पर कमी प्रदेश में ही पूरी हो जाएगी और हिमाचल के लोगों को घर द्वार पर ही नौकरी उपलब्ध हो जाएगी। राज्य के बाहर नहीं भटकना पड़ेगा।

बच्चों की डिमांड के अनुसार शुरू कर सकते हैं कोर्स

जिन आईटीआई में एक या दो कोर्स चल रहे हैं। वहां संचालक बच्चों की डिमांड के अनुसार भी अन्य दो कोर्स शुरू कर सकते हैं, लेकिन उन्हें चार कोर्स निश्चित रूप से चलाने होंगे। बिना चार कोर्स चलाए वह अपनी आईटीआई को संचालित नहीं कर सकेंगे, क्योंकि सरकार उनकी मान्यता रद्द कर देगी। ऐसे में अब बिना चार कोर्स के हिमाचल में कोई भी आईटीआई नहीं चला सकेगा।

दूरदराज के क्षेत्रों में बच्चों को मिलेंगे नए कोर्स

प्रदेश के दूरदराज क्षेत्रों में भी आईटीआई हैं, लेकिन वहां पर छात्रों को अपनी रुचि के कोर्स नहीं मिल पाते। जिस वजह से मजबूरी में उन्हें वही कोर्स करने पड़ते हैं, जो वहां पर होते हैं। लेकिन नई व्यवस्था लागू हो जाने के बाद उन्हें अपनी पसंद के कोर्स भी नजदीकी आईटीआई में मिल सकेंगे। इससे बच्चों को जहां अपने घरों से दूर नहीं जाना होगा, वही भविष्य में वह अपने लिए बेहतर रोजगार के अवसर भी तलाश सकेंगे।

खबरें और भी हैं...