पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आईजीएमसी में पहुंची मशीन:इमरजेंसी में मरीजों काे नहीं ले जाना पड़ेगा एक्सरे रूम तक, अप्रैल से शुरू होगी पाेर्टेबल एक्सरे मशीन

शिमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मरीज को यहां-वहां जाने की नहीं रहेगी जरूरत

आमताैर पर जब भी दुर्घटना या इमरजेंसी में आए मरीज तोे सबसे पहले एक्सरे के लिए लिखा जाता है। तीमारदाराें काे मरीज काे स्ट्रेचर या व्हील चेयर पर एक्सरे रूम तक ले जाना पड़ता है। यहां पर कई बार मरीज काे ले जाने में काफी परेशानी आती है। मगर अब इसी समस्या के समाधान के लिए आईजीएमसी प्रशासन इमरजेंसी में आने वाले मरीजाें के लिए पाेर्टेबल डिजिटल एक्सरे मशीन लगाएगा।

यह मशीन अस्पताल में पहुंच गई है। अप्रैल माह के पहले सप्ताह में इसे शुरू कर दिया जाएगा। मशीन के शुरू हाेने के बाद मरीज काे एक्सरे रूम के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। यही नहीं इस मशीन में तुरंत मरीज काे एक्सरे भी मिल जाएगा। इससे पहले आईजीएमसी में पाेर्टेबल डिजिटल एक्सरे मशीन नहीं है, जिससे मरीजाें काे काफी परेशानी आ रही थी। यहां पर जो पहले पोर्टेबल मशीन लगाई गई है वह न तो डिजिटल है और काफी पुरानी भी हो चुकी है, जिसमें एक्सरे साफ नही आते।

आईजीएमसी में माैजूदा समय में दाे एक्सरे मशीनें लगाई गई है। एक मशीन इमरजेंसी के साथ लगाई गई है, जहां दाेपहर 12 बजे तक एक्सरे किए जाते हैं, जबकि दूसरी मशीन रेडियाेलाॅजी डिपार्टमेंट में स्थापित की गई है। इमरजेंसी के साथ वाली मशीन अक्सर खराब रहती है ताे इमरजेंसी में आने वाले मरीजाें काे भी एक्सरे करवाने के लिए रेडियाेलाॅजी डिपार्टमेंट में पहुंचना पड़ता है। मगर सबसे बड़ी समस्या यह है कि रेडियाेलाॅजी डिपार्टमेंट काफी नीचे है, जहां तक स्ट्रेचर ले जाने में काफी दिक्कतें आती है। वहीं तीमारदार काे एक्सरे करवाने के बाद रिपाेर्ट के लिए भी कई चक्कर काटने पड़ते हैं, मगर डिजिटल एक्सरे मशीन लगने के बाद ना ताे मरीज काे कहीं ले जाने की जरूरत रहेगी और ना ही रिपाेर्ट के लिए भटकने की।

रिपोर्ट भी तुरंत
डिजिटल पोर्टेबल एक्सरे मशीन काे कहीं पर भी ले जाया जा सकेगा। यह मशीन काफी छाेटी हाेती है और इसमें टायर लगे रहते हैं। इस मशीन की विशेषता है कि ज्यादा गंभीर रूप से घायल मरीज को एक्सरे मशीन तक लाने की आवश्यकता नहीं होगी बल्कि मशीन को ही मरीजों के पास ले जाया जा सकेगा। यही नहीं इसमें एक्सरे भी काफी साफ आता है और बार-बार एक्सरे निकालने की जरूरत नहीं रहती है। यही नहीं अाम मशीनाें में एक्सरे लेने के लिए इंतजार भी करना पड़ता है, मगर इसमें तुरंत ही एक्सरे निकाल कर दे दिया जाएगा।

केएनएच में भी शुरू हाेगी डिजिटल एक्सरे मशीन
अप्रैल के पहले सप्ताह में केएनएच अस्पताल में भी डिजिटल एक्सरे मशीन शुरू कर दी जाएगी। इसके लिए मंत्री से समय लिया जा रहा है। आईजीएमसी के साथ ही यहां पर भी मशीन शुरू की जाएगी। अभी यहां पर करीब 20 साल पुरानी मशीन से एक्सरे किए जा रहे हैं जाे अक्सर खराब रहती है। वहीं इसमें एक्सरे भी साफ नहीं आते। डाॅक्टर यहां से कई गर्भवती महिलाओं काे एक्सरे करवाने के लिए आईजीएमसी भेजते हैं। मगर अब यहां पर डिजिटल एक्सरे मशीन शुरू हाेने से गर्भवती महिलाओं काे भी राहत मिलेगी। उन्हें एक्सरे करवाने के लिए परेशान नहीं हाेना पड़ेगा।

सबसे ज्यादा भीड़ रहती है आर्थाे में
आईजीएमसी में आर्थाे डिपार्टमेंट ऐसा है जहां सबसे ज्यादा मरीजाें की भीड़ रहती है। औसतन यहां पर राेजाना 400 से ज्यादा मरीज जांच के लिए आते हैं। इसमें 90 फीसदी मरीजाें काे एक्सरे के लिए लिखा जाता है। पाेर्टेबल एक्सरे मशीन शुरू हाेने से इन मरीजाें काे भी फायदा हाेगा क्याेंकि इमरजेंसी के मरीजाें काे प्राथमिकता दी जाती है। अगर रेडियाेलाॅजी डिपार्टमेंट में इमरजेंसी का मरीज आ जाए ताे सामान्य मरीजाें काे एक्सरे करवाने के लिए इंतजार करना पड़ता है। मगर अब पाेर्टेबल मशीन शुरू हाेने से इमरजेंसी में आने वाले मरीजाें का एक्सरे वहीं पर कर दिया जाए। जिससे रेडियाेलाॅजी विभाग में ज्यादा भीड़ नहीं हाेगी।

आईजीएमसी में इमरजेंसी के लिए पाेर्टेबल डिजिटल एक्सरे मशीन की खरीद कर ली गई है। अप्रैल के पहले सप्ताह में इसे शुरू कर दिया जाएगा। इससे मरीजाें काे काफी राहत मिलेगी। इमरजेंसी में तुरंत उनके एक्सरे किए जा सकेंगे। इसमें साफ एक्सरे रिपाेर्ट आती है, जिससे मरीज की बीमारी का भी साफ पता चल पाएगा।
-प्राे. रजनीश पठानिया, प्रधानाचार्य

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- वर्तमान परिस्थितियों को समझते हुए भविष्य संबंधी योजनाओं पर कुछ विचार विमर्श करेंगे। तथा परिवार में चल रही अव्यवस्था को भी दूर करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण नियम बनाएंगे और आप काफी हद तक इन कार्य...

    और पढ़ें