डाउनडेल में बच्चा रहस्यमय तरीके से गायब:पुलिस और वन विभाग ने शुरू किया सर्च अभियान, तेंदुए के उठाने का भी है शक

शिमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बच्चे की तलाश में पुलिस और फॉरेस्ट की टीम सर्च अभियान चला रही है। - Dainik Bhaskar
बच्चे की तलाश में पुलिस और फॉरेस्ट की टीम सर्च अभियान चला रही है।

दीपावली का दिन और रात के 8.30 बजे, शहर सहित डाउनडेल में भी पटाखे और फुलझड़ियां जल रही थी। इसी बीच अंदेशा है कि घर के बाहर तेंदुआ आया और फुलझड़ी जलाते हुए पांच साल के बच्चे याेगराज काे उठा ले गया। जबकि ये सब शक के आधार पर ही माना जा रहा है। जंगल में बच्चे की पेंट ताे मिली है, लेकिन ये न ताे फटी है और न ही इसमें लगी बेल्ट काे निकाला गया है। अब सवाल उठ रहा है कि बच्चा आखिर रहस्यमय तरीके से कैसे गायब हाे गया।

जानकारी के अनुसार बीते वीरवार देर शाम काे डाउनडेल में दाे बच्चे अपने घर के बाहर फुलझड़ी चला रहे थे, इसी बीच साथ खेल रहा बच्चा अंदर आया औरपरिवार के लाेगाें काे बताया कि उसके भाई यहां नहीं हैं। घर के लाेगाें काे शक हुआ की उसे तेंदुआ उठा ले गया। तब से लेकर अब तक पुलिस, वाइल्ड लाइफ विंग और फाॅरेस्ट विभाग की टीमाें ने सर्च ऑपरेशन चलाया हुआ है।

लेकिन बच्चे का अभी तक काेई सुराग नहीं लग पाया है। बच्चे की पेंट ही जंगल में मिली है, जिसमें खून के कुछ ही धब्बे मिले है। इसके अलावा बच्चे के कपड़े नहीं मिले हैं। पहले जहां परिजन इसे तेंदुए का हमला बता रहे थे, अब उनकी शक की सुई भी कहीं और घूम रही है।

कब-क्या हुआ
वीरवार रात 8ः30 के करीब बच्चा गायब हुआ, परिजनाें ने अपने स्तर पर तलाश शुरू की।
पुलिस और वाइल्ड लाइफ विंग काे देरी से सूचना मिली।
रात करीब 11 बजे से सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया।
सुबह पांच बजे पुलिस और वन विभाग की टीमें आसपास के जंगलाें में छानबीन करती रही।
शुक्रवार काे दिनभर अभियान चला, लेकिन देर शाम तक बच्चे के पेंट के अलावा कुछ नहीं मिला।
रात काे सर्च ऑपरेशन राेक दिया गया है।

अब डॉग स्क्वॉड पहुंचेगा माैके पर
शनिवार काे सुबह अब पुलिस डाॅग स्क्वॉड की मदद लेगी। ऐसे में उम्मीद है कि पुलिस काे इससे कुछ सुराग मिल जाएगा। हालांकि, पुलिस संभावित और संदिग्धाें से भी इस मामले में पूछताछ कर सकती हैं। आखिर बच्चा कैसे गायब हुआ और अगर तेंदुआ बच्चे काे ले गया ताे बच्चे के कपड़े कहां पर हैं। वहीं, खून के जाे धब्बे पेंट में मिले हैं, वे किसके हैं। अब इसका पता जांच के बाद ही लगेगा।

सवालः पटाखाें के शाेर के बीच कैसे आ गया तेंदुआ
अब सबसे बड़ा सवाल ये उठ रहा है कि पूरे शहर में आतिशबाजी और पटाखाें का शाेर था। वहीं, डाउनडेल में भी आसपास और घर के बाहर लाेग पटाखे जला रहे थे। बच्चे भी फुलझड़ी जला रहे थे, ऐसे में कैसे तेंदुआ आया और घर के आंगन में खेल रहे बच्चे काे उठा ले गया। अब पुलिस इसकी छानबीन कर रही है। फिलहाल पुलिस ने अभी गुमशुदगी की शिकायत के आधार पर ही छानबीन कर रही है। बच्चे के पिता केदारनाथ शिमला में टैक्सी चलाने का काम करते हैं। ये दाड़लाघाट के रहने वाले हैं और काफी समय से डाउनडेल के काैड़ी माेहल्ला में रहते हैं।

बच्चे के गायब हाेने की सूचना हमें मिली, हम माैके पर सर्च कर रहे हैं। बच्चे काे तेंदुआ ले गया या फिर काेई और बात है, इसकी जानकारी जांच के बाद ही पता लगेगी। फिलहाल हम सर्च ऑपरेशन चला रहे हैं। बच्चे की पेंट ही अभी मिली है।
-एलआर चाैहान, एआरओ, फाॅरेस्ट विभाग

बच्चे की तलाश में हमारी टीमें लगी हुई हैं। जाे बच्चा साथ था, उसके अनुसार ये तेंदुआ हाे सकता है, जाे बच्चे काे आंगन से उठाकर ले गया। हमारी इन्वेस्टिगेशन जारी है। पुलिस के 50 जवान और क्यूआरटी बच्चे काे ढूंढने में लगी हुई है।
-माेनिका भटुंगरू, एसपी, शिमला पुलिस

खबरें और भी हैं...