पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना कर्फ्यू:हर जगह पुलिस, फिर भी बेवजह घरों से निकले कई लोग, 82 के चालान

शिमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना कर्फ्यू के पहले दिन ही विक्ट्री टनल में गाड़ियों आम-दिनों की तरह आती जाती रही। - Dainik Bhaskar
कोरोना कर्फ्यू के पहले दिन ही विक्ट्री टनल में गाड़ियों आम-दिनों की तरह आती जाती रही।
  • गाडि़यों में क्षमता से ज्यादा लोग बैठाने पर 20 पर कार्रवाई

जिले में शुक्रवार सुबह छह बजे से कर्फ्यू लागू हाे गया। कर्फ्यू में सुबह छह बजे से ही पुलिस जगह-जगह तैनात हाे गई। बाहर से आने वाले वाहनाें की लगातार चेकिंग की जा रही थी। वाहनाें में 50 फीसदी क्षमता के साथ लाेगाें काे बिठाया गया। पुलिस ने कई छाेटे वाहनाें में चालक के साथ बैठे व्यक्ति काे पीछे वाली सीट पर भी बैठने के लिए कहा। शुक्रवार को जिले में 82 चालान बिना मास्क और 20 चालान गाड़ियों में क्षमता से ज्यादा लोगों के बिठाने पर पर किए गए।

हालांकि कर्फ्यू का पालन लाेगाें ने पूरी तरह से नहीं किया। पहले दिन ही बाजाराें में सुबह के समय काफी लाेग नजर आए। इसमें ज्यादातर लाेग बिना वजह ही बाजार आए थे, क्याेंकि वह ना ताे राशन की दुकानाें में जा रहे थे और ना ही सब्जी की। बाजार में इधर-उधर चक्कर काटते हुए भी कई लाेग देखे गए।

खासकर उपनगराें में कई लाेग बिना वजह ही बाजार में घूमते नजर आए। वहीं शहर के रिज और मालराेड पहले आम दिनाें से काफी कम भीड़ देखी गई। यहां पर जरूरी सेवाओं से जुड़े पुलिस, मीडिया कर्मियाें के अलावा कुछ अधिकारी और नगर निगम के कर्मचारी ही नजर आए। उपनगराें में भी कर्फ्यू का मिलाजुला असर रहा। लाेग बिना कारण के भी घूम रहे थे।

कर्फ्यू के दाैरान नगर निगम की टीम ने लाेअर बाजार काे सेनेटाइज किया ताकि काेराेना वायरस काे खत्म किया जा सके। निगम ने बीते कई दिनाें से लाेअर बाजार काे सेनेटाइज नहीं किया था, इसका एक कारण यह भी था कि बाजार खुलने के बाद सेनेटाइज करना मुश्किल था।

पुलिस समझाती रही काेराेना की गाइडलाइन

काेराेना कर्फ्यू में बिना काम के घराें से बाहर ना निकलने और जाे लाेग बाजार में खरीदारी के लिए आए हैं उन्हें साेशल डिस्टेसिंग और मास्क पहनने के लिए पुलिस कर्मचारी लगातार लाेगाें काे लाउड स्पीकराें से एनाउंसमेंट करते रहे। लाेअर बाजार समेत कई जगहाें पर पुलिस ने लाउड स्पीकराें से लाेगाें काे काेराेना नियमाें के बारे में बताया।

इसमें कई लाेगाें से पूछताछ भी की गई और उनसे बाजार आने के बारे में भी पूछा गया। बाजाराें में भी जगह-जगह पर पुलिस की गश्त रही। पुलिस कर्मचारी लगातार लाेगाें काे मास्क लगाने और साेशल डिस्टेंसिंग काे लेकर समझाते रहे। पुलिस टूटीकंडी क्रासिंग, विक्ट्री टनल समेत कई जगहाें पर शहर में आने वाले हर वाहन चालक से पूछताछ कर रही थी। निजी वाहनाें में 50 फीसदी क्षमता के साथ भी लाेगाें काे बिठाया गया।

सरकारी बसाें ने नहीं आने दी परेशानी

काेराेना कर्फ्यू के दाैरान हालांकि सरकार और प्रशासन ने एचआरटीसी की बसाें काे चलाने के आदेश जारी किए हैं। शुक्रवार काे कर्फ्यू के पहले दिन सरकारी बसाें ने माेर्चा संभाल लिया। इस दाैरान सुबह से शाम तक सरकारी बसें चलाई गई।

हालांकि इसमें कुछ उपनगराें में रूट कम हाेने के कारण लाेगाें काे कुछ दिक्कतें आई मगर शहर और आसपास के एरिया में दिनभर बसाें की आवाजाही रही। भीड़ कम हाेने के कारण साेशल डिस्टेसिंग का पालन भी बसाें में हुआ। वहीं निजी बस ऑपरेटराें ने काेई भी बस नहीं चलाई।

खबरें और भी हैं...