सामान्य से छह फीसदी ज्यादा बरसा मानसून:प्रदेश में जुलाई में बारिश ने 15 सालाें का रिकाॅर्ड ताेड़ा, कुल्लू-किन्नाैर में लैंडस्लाइड, 378 सड़कें अब भी बंद

शिमला3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चंडीगढ़-मनाली एनएच पर चट्टानों की चपेट में आए तीन वाहन, कोई जानी नुकसान नहीं। - Dainik Bhaskar
चंडीगढ़-मनाली एनएच पर चट्टानों की चपेट में आए तीन वाहन, कोई जानी नुकसान नहीं।
  • भारी बारिश के कारण पानी की 107 स्कीमें अब भी प्रभावित मौसम विभाग ने 2 अगस्त तक भारी बारिश का यलो अलर्ट जारी किया

प्रदेश में बारिश का कहर जारी है। जुलाई महीने में मानसून सामान्य से छह फीसदी ज्यादा बरसा है। इस दाैरान 211 लाेगाें काे अपनी जान से भी हाथ धाेना पड़ा है। 31 जुलाई तक प्रदेश में 289 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है। इस अवधि में सामान्य बारिश 273 मिलीमीटर मानी गई है। जुलाई महीने की बारिश ने पिछले 15 सालों का रिकाॅर्ड तोड़ा है। इससे पहले जुलाई-2005 में राज्य में सामान्य से सात फीसदी (309 मिमी) अधिक बारिश हुई थी।

भारी बरसात से हुए भूस्खलन के कारण 378 सड़कें अब भी बंद हैं। इनमें चंबा में 45, हमीरपुर में 23, कांगड़ा में 11, किन्नाैर में 4, कुल्लू में 37, लाहाैल स्पीति में 2, मंडी में 129, शिमला में 96 और सिरमाैर में 30 सड़क बाधित हैं। पानी की 107 स्कीमें प्रभावित हुई हैं। भारी बारिश से से 54 घराें काे नुकसान पहुंचा है। कुल्लू में सबसे ज्यादा 24 घर क्षतिग्रस्त हुए हैं। कुल्लू और किन्नौर में एक दो जगह भूस्खलन हुआ है।

चंडीगढ़-मनाली एनएच पर चट्टानों की चपेट में आए तीन वाहन, कोई जानी नुकसान नहीं

चंडीगढ़-मनाली नेशनल हाईवे को 14 घंटों के बाद यातायात के लिए बहाल कर दिया गया है। बीती शुक्रवार रात करीब साढ़े दस बजे मंडी जिला के सात मील के पास पहाड़ी से भारी चट्टानें-पत्थर और मलवा गिरने के कारण यहां हाईवे पूरी तरह से बाधित हो गया। सब्जी लेकर जा रही एक जीप मलबे की चपेट में गई थी। जीप चालक ने भागकर अपनी जान बचा ली। जीप सब्जी सहित पूरी तरह से चट्टान और मलबे से दब गई। दूसरे हादसे में इसी मार्ग पर कार व स्कूटी पर पहाड़ी से पत्थर आ गिरे। सवारों ने भागकर अपनी जान बचाई। गनीमत रही कि इसमें कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है।

मौसम विभाग की नदी नालों से दूर रहने की सलाह
मौसम विभाग ने आगामी दो अगस्त तक राज्य में भारी बारिश की चेतावनी दी है। विभाग ने मैदानी एवं मध्यपर्वतीय क्षेत्रों में यलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विभाग ने भारी बारिश की आशंका के मद्देनजर आम लोगों व सैलानियों को नदी-नालों से दूर रहने की सलाह दी है।

कुल्लू-मंडी के बीच रात 8 से सुबह 6 बजे तक सड़क बंद
भूस्खलन के कारण मंडी-कुल्लू एनएच-21 रात 8 से लेकर सुबह 6 बजे तक वाया पंडोह होकर आवाजाही बंद रहेगी। एसडीएम कुल्लू विकास शुक्ला ने लोगों से अपील की है कि वे कुल्लू और मंडी के बीच वाया पंडोह सफर न करें। वे वाया कंडी कटौला होकर सफर कर सकते हैं।

लाहौल में 9 अगस्त तक सभी शिक्षण संस्थान बंद
जिला प्रशासन ने निर्णय लिया है कि 9 अगस्त तक घाटी में तमाम शिक्षण संस्थान बंद रहेंगे। उपायुक्त लाहौल स्पीति नीरज कुमार ने बताया कि भारी बारिश एवं बाढ़ के कारण कई सड़कें तथा पुल टूट गए हैं जिसे देखते हुए यह निर्णय लिया है। सरकार ने स्कूलों को 2 अगस्त से खोलने के आदेश दिए थे।

प्रभावित परिवारों को हर संभव सहायता देगी सरकार: जयराम

मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने लाहौल स्पीति जिला के उदयपुर उप-मंडल के अंतर्गत 27 जुलाई को तोजिंग नाला में आई बाढ़ से हुए नुकसान का जायजा लिया। उन्होंने घटनास्थल का निरीक्षण किया और प्रभावित लोगों से बातचीत की। मुख्यमंत्री ने किरटिंग में जिला प्रशासन के अधिकारियों को बाढ़ के कारण हुए नुकसान का आकलन करने के निर्देश दिए। सीएम उदयपुर क्षेत्र की पट्टन घाटी से सुरक्षित बचाए गए लोगों से मिले।द् उन्होंने पानी में बहे लोगों की तलाश में जुटे आईटीबीपी की सराहना की। मुख्यमंत्री ने कहा कि मुश्किल की इस घड़ी में प्रदेश सरकार प्रभावित परिवारों के साथ खड़ी है और उन्हें हर संभव सहायता प्रदान की जाएगी। जिला प्रशासन ने सभी के भोजन और ठहरने की उचित व्यवस्था की है। बीआरओ भी उन्हें आर्थिक मदद प्रदान करेगा।

जनजातीय विकास मंत्री डा. रामलाल मारकंडा और जनजातीय सलाहकार समिति के सदस्य व वरिष्ठ अधिकारी भी मुख्यमंत्री के साथ उपस्थित थे। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर कांगड़ा से हेलीकॉप्टर से सीधे लाहौल का रुक कर रहे थे परंतु रोहतांग की पहाड़ियों में मौसम खराब होने के कारण उनके हेलीकॉप्टर को यहां की पहाड़ियों से वापस लौटना पड़ा और मनाली के सासे में लैंडिंग की। उसके बाद वे वाहनों से लाहौल स्पीति के लिए बाया रोहतांग टनल रवाना हुए हैं जहां वे बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा करेंगे।

खबरें और भी हैं...