पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉटर प्रोजेक्ट:शहरी विकास विभाग के सचिव ने सतलुज के बल्क वॉटर प्रोजेक्ट पर जल्द काम शुरू करने के दिए निर्देश

शिमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रोजेक्ट का निरीक्षण करते हुए शहरी विकास विभाग के सचिव रजनीश गुम्मा। - Dainik Bhaskar
प्रोजेक्ट का निरीक्षण करते हुए शहरी विकास विभाग के सचिव रजनीश गुम्मा।

शहरी विकास विभाग के सचिव रजनीश ने सतलुज से शिमला को पानी लाने वाले बल्क वॉटर प्रोजेक्ट पर जल्द से जल्द काम शुरू करने के निर्देश दिए हैं। सचिव ने शनिवार को अधिकारियों के साथ सुन्नी में उस जगह का दौरान किया जहां से होकर शिमला को पानी लाया जाना है।

इसके अलावा उन्होंने चाबा, गुम्मा की पेयजल परियोजना का भी निरीक्षण किया। सतलुज से शहर को 67 एमएलडी पानी लाया जाना है। इस प्रोजेक्ट के लिए टेंडर कर दिए गए हैं और इसकी ड्राइंग भी तैयार की जा रही है। सचिव ने इस सारे काम को जल्द से जल्द पूरा कर प्रोजेक्ट के कार्य को शुरू करने के आदेश दिए। सलतुज प्रोजेक्ट करीब 370 करोड़ से पूरा किया जाना है और इसके पूरे होने से शिमला शहर में चौबीस घंटों लोगों को पानी मिलने लगेगा। इस प्रोजेक्ट के शुरू होने से शिमला शहर की 2048 तक की पानी की जरुरतों को पूरा किया जा सकेगा।

रजनीश ने चाबा का भी दौरा किया जहां से गुम्मा के लिए 10 एमएलडी पानी लाने का प्रोजेक्ट बनाया गया है। इसके अलावा उन्होंने शहर की सबसे बड़े गुम्मा के प्रोजेक्ट को भी देखा। सचिव ने इस प्रोजेक्ट के अॉटोमेशन के कार्य को जल्द शुरू करने को कहा। अंग्रेजों के समय बना यह प्रोजेक्ट अपना 100 साल पूरा कर चुका है।

इसकी फंक्शनिंग के बारे में आम लोगों को बताने के लिए यहां पर एक म्यूज्यिम भी बनाया जाना है, जिसमें प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल की गई मशीनरी को दिखाया जाएगा और यह भी बताया जाएगा कि यह प्रोजेक्ट किस तरह आस्तित्व में आया है और यह कैसे काम करता है। स्कूली छात्रों को भी इस प्रोजेक्ट से अवगत करवाया जाएगा। इस बारे में भी अधिकारियों को निर्देश दिए गए।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

    और पढ़ें