PHOTOS में बर्फबारी के खूबसूरत नजारे:शिमला में हुआ सीजन का पहला हिमपात; जाखू ने भी ओढ़ी सफेद चादर, देखकर सैलानी बाग-बाग

शिमला7 महीने पहले

शनिवार को हिमाचल प्रदेश के शिमला में सीजन की पहली बर्फबारी हुई। इसके साथ ही शिमला ने बर्फ की सफेद चादर ओढ़ ली। वहीं हिमपात के बाद शिमला के खूबसूरत नजारे देखकर सैलानी बाग-बाग हो गए। इस तरह सैलानियों और शिमलावासियों का बर्फबारी का इंतजार खत्म हो गया।

शिमला के कुफरी, नारकंडा सहित ऊंचाई वाले इलाकों में शुक्रवार को बर्फबारी हुई थी। शनिवार को शिमला शहर में बर्फबारी हुई। जाखू में तीन से चार इंच तक ताजा हिमपात हुआ। हम आपको तस्वीरों में दिखा रहे हैं शिमला में बर्फबारी के खूबसूरत दिल लुभाने वाले नजारे...

बर्फबारी के बाद शिमला की असली खूबसूरती निखर कर सामने आती है और इसका अंदाजा यह तस्वीर देखकर लगाया जा सकता है। शिमला भारतीय और विदेश सैलानियों का सबसे पसंदीदा टूरिस्ट प्लेस है। हर साल लाखों सैलानी बर्फबारी का लुत्फ उठाने हिमाचल पहुंचते हैं और शिमला में पहली बर्फबारी का उन्हें बेसब्री से इंतजार रहता है।
बर्फबारी के बाद शिमला की असली खूबसूरती निखर कर सामने आती है और इसका अंदाजा यह तस्वीर देखकर लगाया जा सकता है। शिमला भारतीय और विदेश सैलानियों का सबसे पसंदीदा टूरिस्ट प्लेस है। हर साल लाखों सैलानी बर्फबारी का लुत्फ उठाने हिमाचल पहुंचते हैं और शिमला में पहली बर्फबारी का उन्हें बेसब्री से इंतजार रहता है।
हिमाचल में बर्फबारी जहां सैलानियों और प्रदेशवासियों के लिए एक उत्सव की तरह होती है, वहीं इसकी वजह से कई परेशानियां भी उठानी पड़ती हैं। जैसे कई-कई इंच बर्फ पड़ने से सड़कें बंद हो जाती हैं। इससे आवाजाही बाधित होती है। तापमान गिर जाता है, इस वजह से कई जगहों पर लोगों को घरों में कैद होना पड़ता है।
हिमाचल में बर्फबारी जहां सैलानियों और प्रदेशवासियों के लिए एक उत्सव की तरह होती है, वहीं इसकी वजह से कई परेशानियां भी उठानी पड़ती हैं। जैसे कई-कई इंच बर्फ पड़ने से सड़कें बंद हो जाती हैं। इससे आवाजाही बाधित होती है। तापमान गिर जाता है, इस वजह से कई जगहों पर लोगों को घरों में कैद होना पड़ता है।
हालांकि शिमला शहर में रोड खुली हैं, लेकिन कई इलाकों में रास्ते बंद भी हो चुके हैं। एंबुलेंस मार्ग, पैदल रास्ते बंद हो गए हैं। नगर निगम ने इन्हें साफ कर यातायात बहाल करने के लिए कर्मचारी तैनात किए हैं। कुफरी-फागू हाईवे पर 20 से ज्यादा कर्मियों समेत 10 से ज्यादा मशीनें बर्फ हटाने में लगी हैं। कैल्शियम क्लोराइड की स्प्रे से बर्फ को पिघलाकर यातायात को सुचारु करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
हालांकि शिमला शहर में रोड खुली हैं, लेकिन कई इलाकों में रास्ते बंद भी हो चुके हैं। एंबुलेंस मार्ग, पैदल रास्ते बंद हो गए हैं। नगर निगम ने इन्हें साफ कर यातायात बहाल करने के लिए कर्मचारी तैनात किए हैं। कुफरी-फागू हाईवे पर 20 से ज्यादा कर्मियों समेत 10 से ज्यादा मशीनें बर्फ हटाने में लगी हैं। कैल्शियम क्लोराइड की स्प्रे से बर्फ को पिघलाकर यातायात को सुचारु करने के प्रयास किए जा रहे हैं।
शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने भी लोगों के साथ अपना नंबर शेयर किया है। क्योंकि प्रदेश के आधा दर्जन जिलों में हिमपात से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। शिमला में 250 से ज्यादा सड़कें बंद और सैकड़ों बस रूट प्रभावित हैं। शिमला शहर में रिज, जाखू, बेनमोर, लक्कड़ बाजार में फिसलन की स्थिति बनी हुई है, लेकिन सैलानी बर्फबारी का खूब लुत्फ उठा रहे हैं। प्रशासन-पुलिस द्वारा भी हर संभव एहतियात बरती जा रही है।
शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज ने भी लोगों के साथ अपना नंबर शेयर किया है। क्योंकि प्रदेश के आधा दर्जन जिलों में हिमपात से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। शिमला में 250 से ज्यादा सड़कें बंद और सैकड़ों बस रूट प्रभावित हैं। शिमला शहर में रिज, जाखू, बेनमोर, लक्कड़ बाजार में फिसलन की स्थिति बनी हुई है, लेकिन सैलानी बर्फबारी का खूब लुत्फ उठा रहे हैं। प्रशासन-पुलिस द्वारा भी हर संभव एहतियात बरती जा रही है।
शिमला पुलिस ने लोगों से अपील की है कि सुरक्षित वैकल्पिक मार्ग से ही यात्रा करें। ऐसे ड्राइवरों के साथ यात्रा करें, जिनके पास बर्फीले क्षेत्र में ड्राइव करने का अच्छा अनुभव है। आपातकालीन स्थिति में सहायता के लिए पुलिस सहायता कक्ष 01772812344 या नजदीकी पुलिस थाना में संपर्क किया जा सकता है।
शिमला पुलिस ने लोगों से अपील की है कि सुरक्षित वैकल्पिक मार्ग से ही यात्रा करें। ऐसे ड्राइवरों के साथ यात्रा करें, जिनके पास बर्फीले क्षेत्र में ड्राइव करने का अच्छा अनुभव है। आपातकालीन स्थिति में सहायता के लिए पुलिस सहायता कक्ष 01772812344 या नजदीकी पुलिस थाना में संपर्क किया जा सकता है।
शिमला के अलावा लाहौल स्पीति, किन्नौर, चंबा, हमीरपुर, कांगड़ा, सोलन, ऊना और सिरमौर जिला में बर्फबारी हुई है। प्रदेश भर में 258 सड़कें और 116 बिजली ट्रांसफॉर्मर ठप हैं। सबसे अधिक 162 सड़कें लाहौल स्पीति जिले में ठप हैं। इसके अलावा 7 पेयजल योजनाएं भी प्रभावित हुई हैं, लेकिन लाखों की संख्या में सैलानी हिमाचल में मौजूद हैं और पहाड़ों की खूबसूरती को निहारते हुए सीजन की पहली बर्फबारी का मजा ले रहे हैं।
शिमला के अलावा लाहौल स्पीति, किन्नौर, चंबा, हमीरपुर, कांगड़ा, सोलन, ऊना और सिरमौर जिला में बर्फबारी हुई है। प्रदेश भर में 258 सड़कें और 116 बिजली ट्रांसफॉर्मर ठप हैं। सबसे अधिक 162 सड़कें लाहौल स्पीति जिले में ठप हैं। इसके अलावा 7 पेयजल योजनाएं भी प्रभावित हुई हैं, लेकिन लाखों की संख्या में सैलानी हिमाचल में मौजूद हैं और पहाड़ों की खूबसूरती को निहारते हुए सीजन की पहली बर्फबारी का मजा ले रहे हैं।
लाहौल स्पीति जिला मुख्यालय केलांग में अभी तक करीब 8 इंच ताजा बर्फबारी रिकॉर्ड हुई है। उपायुक्त लाहौल-स्पीति नीरज कुमार ने कहा है कि मौसम के रुख को देखते हुए लोग अनावश्यक यात्रा न करें और हिमस्खलन की आशंका वाली जगहों की तरफ भी न जाएं।
लाहौल स्पीति जिला मुख्यालय केलांग में अभी तक करीब 8 इंच ताजा बर्फबारी रिकॉर्ड हुई है। उपायुक्त लाहौल-स्पीति नीरज कुमार ने कहा है कि मौसम के रुख को देखते हुए लोग अनावश्यक यात्रा न करें और हिमस्खलन की आशंका वाली जगहों की तरफ भी न जाएं।
शिमला में बर्फबारी होने से होटल कारोबारी भी काफी खुश हैं। क्योंकि इससे टूरिस्ट की संख्या बढ़ने के आसार बन गए हैं। हालांकि कोरोना के चलते प्रदेश में कुछ बंदिशें भी लगाई गई हैं, लेकिन इस बार कारोबारियों को अच्छा व्यापार होने की उम्मीद है। वे पिछले दो साल से काफी नुकसान झेल रहे हैं, लेकिन इस साल कुछ मुनाफा होने की संभावना होने की उम्मीद है।
शिमला में बर्फबारी होने से होटल कारोबारी भी काफी खुश हैं। क्योंकि इससे टूरिस्ट की संख्या बढ़ने के आसार बन गए हैं। हालांकि कोरोना के चलते प्रदेश में कुछ बंदिशें भी लगाई गई हैं, लेकिन इस बार कारोबारियों को अच्छा व्यापार होने की उम्मीद है। वे पिछले दो साल से काफी नुकसान झेल रहे हैं, लेकिन इस साल कुछ मुनाफा होने की संभावना होने की उम्मीद है।
पूरे हिमाचल प्रदेश में मौसम काफी खराब बना हुआ है। चार दिन से प्रदेश में रुक-रुक कर बारिश और बर्फबारी हो रही है। 2 दिनों के दौरान मैदानी इलाकों में झमाझम बारिश और मध्य और उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में भारी बर्फबारी होने का पूर्वानुमान है। सोमवार से मौसम में सुधार आने की संभावना जताई गई है।
पूरे हिमाचल प्रदेश में मौसम काफी खराब बना हुआ है। चार दिन से प्रदेश में रुक-रुक कर बारिश और बर्फबारी हो रही है। 2 दिनों के दौरान मैदानी इलाकों में झमाझम बारिश और मध्य और उच्च पर्वतीय क्षेत्रों में भारी बर्फबारी होने का पूर्वानुमान है। सोमवार से मौसम में सुधार आने की संभावना जताई गई है।
सिर्फ हिमाचल में ही नहीं, बल्कि जम्मू कश्मीर के कटरा में माता वैष्णो देवी मंदिर में बर्फबारी हुई है। इसके चलते बैटरी कार और हेलिकॉप्टर सेवाएं निलंबित कर दी गई हैं। शोपियां, कारगिल और श्रीनगर में भी बर्फबारी के खूबसूरत नजारे देखने को मिले, लेकिन जनजीवन काफी अस्तव्यस्त हो गया है।
सिर्फ हिमाचल में ही नहीं, बल्कि जम्मू कश्मीर के कटरा में माता वैष्णो देवी मंदिर में बर्फबारी हुई है। इसके चलते बैटरी कार और हेलिकॉप्टर सेवाएं निलंबित कर दी गई हैं। शोपियां, कारगिल और श्रीनगर में भी बर्फबारी के खूबसूरत नजारे देखने को मिले, लेकिन जनजीवन काफी अस्तव्यस्त हो गया है।
खबरें और भी हैं...