• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Single Use Plastic Bane Himachal Made Action Plan Today, ACS Gave Instructions To All Stakeholder Departments And DCs

सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध:हिमाचल ने बनाया एक्शन प्लान, ACS ने आज सभी हितधारकों और DC को दी हिदायतें

शिमला3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक तस्वीर। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक तस्वीर।

केंद्र के आदेशों पर हिमाचल प्रदेश में भी एक जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक को प्रतिबंधित करने की तैयारी तेज हो गई है। राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव (ACS) प्रबोध सक्सेना ने बुधवार को इसे लेकर विज्ञान पर्यावरण एवं प्रौद्योगिकी विभाग समेत हितधारक विभागों और सभी DC की बैठक ली। इसमें DC वर्चुअल माध्यम से जुड़े। ACS ने सभी अधिकारियों को केंद्र के निर्देशों का सख्ती से पालन करने की हिदायत दी। इस दौरान सिंगल यूज प्लास्टिक पर प्रतिबंध लगाने के लिए एक एक्शन प्लान भी तैयार किया गया। इसे जल्द केंद्र को भेजा जाएगा। भविष्य में इसी एक्शन प्लान के मुताबिक सभी हितधारकों को काम करना होगा।

एक्शन प्लान में DC से लेकर शहरी विकास विभाग, पंचायती राज एवं ग्रामीण विकास विभाग, पंचायतों और स्थानीय शहरी निकाय की जिम्मेदारियां तय की गई है। यानी पर्यावरण के लिए सबसे बड़ा खतरे बन रहे प्लास्टिक का प्रयोग रोकना सबकी ज़िम्मेवारी होगी।

राज्य सरकार कारोबारियों के विरोध के बावजूद सिंगल यूज प्लास्टिक पर रोक के निर्णय का पालन करने का निर्णय लिया है। बताया जा रहा है कि केंद्र सरकार UNO में भी सिंगल यूज प्लास्टिक पर रोक की बात दोहरा चुका है। ऐसे में व्यापारियों की मांग पर राहत मिलने के कम ही आसार नजर आ रहे हैं।

परसों से ये उत्पाद होंगे बैन

केंद्र के निर्देशानुसार एक जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक से बने 19 उत्पादों पर पाबंदी लग जाएगी। इनमें झंडें, कैंडी, गुब्बारे, आइसक्रीम में लगने वाली प्लास्टिक स्टिक, थर्माकोल से बनी प्लेट, कप, गिलास, प्लास्टिक चम्मच, कांटे, चाकू, तश्तरी के अलावा मिठाई के डिब्बे, निमंत्रण पत्र और सिगरेट पैकेट की पैकेजिंग में इस्तेमाल होने वाली फिल्म व 100 माइक्रॉन से कम के प्लास्टिक या PCV बैनर भी शामिल हैं।

ऐसे में जो व्यक्ति एक जुलाई से सिंगल यूज प्लास्टिक वाले इन उत्पादों को बेचते हुए पकड़ा गया। उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। जितनी अधिक प्लास्टिक की मात्रा होगी, उतना ही अधिक राशि का चालान किया जाएगा। सरकार ने 30 जून तक पुराना स्टाक खत्म करने के निर्देश दे रखे हैं।