• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Sonia Gandhi Is Still In Shimla, Will Meet Virbhadra Family, After The Death Of Former CM Virbhadra Singh Has Not Met Raj Family, Rahul And Priyanka Gandhi Return To Delhi

राहुल, प्रियंका और रॉबर्ट वाड्रा लौटे दिल्ली:सोनिया गांधी अभी शिमला में रुकेंगी, पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह के परिवार से करेंगी मुलाकात

शिमला9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अपनी बहन के घर के बाहर फोटो खींचते राहुल गांधी। - Dainik Bhaskar
अपनी बहन के घर के बाहर फोटो खींचते राहुल गांधी।

छुट्टियां बिताने शिमला पहुंचे गांधी परिवार के सदस्य बुधवार को दिल्ली वापस लौट गए।कांग्रेस के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी अपनी बहन और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और उनके पति रॉबर्ट वाड्रा के साथ दिल्ली वापस लौट गए। हालांकि कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी अभी भी कुछ दिनों के लिए शिमला में ही रुकेंगी। दोपहर बाद में यहां से निकल गए। कांग्रेस पार्टी के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को उनके यहां पर आने की किसी भी तरह की सूचना नहीं थी, गांधी परिवार का यह बिल्कुल ही निजी दौरा रहा, जबकि उनके यहां से जाने का भी किसी को पता नहीं चला।

गौरतलब है कि प्रियंका वाड्रा 18 सितंबर को अपने पति रॉबर्ट वाड्रा और बच्चों के साथ छरावड़ा स्थित अपने आवास पर पहुंची, जबकि उनकी मां सोनिया गांधी और भाई राहुल गांधी 20 सितंबर को शिमला पहुंचे। सोनिया गांधी सुबह 11:30 बजे के समय छराबड़ा पहुंची, जबकि राहुल गांधी पंजाब सीएम के शपथ ग्रहण समारोह में शिरकत करने के बाद दोपहर 3:00 बजे के बाद छराबड़ा पहुंचे।

प्रियंका गांधी का छराबड़ा में घर, जहां पर पूरा परिवार रूका।
प्रियंका गांधी का छराबड़ा में घर, जहां पर पूरा परिवार रूका।

पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के परिवार से भेंट कर सकती हैं सोनिया
खबर निकल कर आ रही है कि सोनिया गांधी के यहां पर निकलने का कारण कुछ और ही है। वह हिमाचल प्रदेश के स्वर्गीय पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के परिवार से भेंट कर सकती है, क्योंकि वीरभद्र सिंह के देहांत के बाद वह एक बार भी उनके परिवार से नहीं मिली है, जबकि राहुल गांधी उनकी अंतिम यात्रा में शिरकत कर चुके हैं।

6 बार के मुख्यमंत्री रह चुके हैं वीरभद्र सिंह
गौरतलब है कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह हिमाचल के छह बार के मुख्यमंत्री रहे। इसके अलावा केंद्र में भी उन्होंने कैबिनेट मंत्री के तौर पर अपनी सेवाएं दी थीं। उनका नाम पार्टी के कद्दावर नेताओं में गिना जाता था। देहांत के बाद राहुल गांधी समेत अन्य तमाम बड़े नेताओं ने उन्हें अंतिम विदाई दी थी, लेकिन सोनिया गांधी उनसे मिलने नहीं पहुंच पाई थी।

खबरें और भी हैं...