पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पानी की समस्या:चाैथे दिन लगातार शहर में कम पहुंची पानी की सप्लाई, 60 से 70 लाख लीटर कम मिला पानी

शिमला4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • कई एरिया में कम दी गई सप्लाई, आने वाले दिनाें में दिक्कतें बढ़ने के आसार

शिमला शहर के लिए लगातार चौथे दिन पानी की कम सप्लाई हुई है। वाटर टैंकों की सफाई कार्य के चलते इन दिनों विभिन्न परियोजनाओं से पानी की लिफ्टिंग प्रभावित हो रही है। शनिवार को चाबा में सफाई कार्य चलाया गया। इसके चलते गुम्मा परियोजना से पूरा पानी लिफ्ट नहीं किया जा सका।

शनिवार को सभी परियोजनाओं से शिमला शहर को कुल 37 एमएमलडी पानी ही मिल पाया जो कि आम दिनों की तुलना में 60 से 70 लाख लीटर कम है। इससे शहर में कई जगह पानी की सप्लाई प्रभावित हुई। कई इलाकों में टाइमिंग कर पानी की सप्लाई दी गई।

शिमला को पानी की सप्लाई करने वाली पेयजल परियोजनाओं में सफाई कार्य से शहर में पानी का संकट पैदा हो गया है। एसजेपीएनएल की ओर से बीते कुछ दिनों से परियोजनाओं और इनके वाटर टैंकों की सफाई की जा रही है।

हालांकि सफाई कार्य का समय पहले से ही शैडयूल किया गया हैै, लेकिन इससे शहर की पानी की सिस्टम ही गड़बड़ा गया है और पानी की कमी हो गई है। इसे चलते कई जगह पानी की शैड्यूल बदल गया है और पानी की टाइमिंग भी कम हो गई है।

चाबा में सफाई कार्य से प्रभावित हुई सप्लाई

एसजेपीएनएल द्वारा बीते दो दिनों से चाबा परियोजना में सफाई कार्य किया जा रहा है। शुक्रवार को चाबा परियोजना की सफाई का काम शुरू किया गया जो कि शनिवार को भी जारी रहा। इसके चलते शिमला शहर में शनिवार को गुम्मा से कम पानी पहुंचा। चाबा से इन दिनों 6 एमएलडी पानी लिफ्ट कर गुम्मा परियोजना तक पहुंचा जाया जा रहा है, जहां से यह पानी शिमला शहर को पहुंचाया जाता है।

गर्मियों में नौटी खड्ड-गुम्मा में पानी की कमी होने लगती है और इस कमी को पूरी करने के लिए चाबा से पानी लिफ्ट करने की परियोजना बनाई गई है। इस तरह गुम्मा में पानी की कमी को चाबा से पूरा किया जाता रहा है।

मगर दो दिनों तक सफाई कार्य के चलते चाबा से पानी की सप्लाई प्रभावित हुई है। यही वजह है कि शिमला शहर को गुम्मा से पानी की सप्लाई घटी है। शनिवार को गुम्मा से 16.15 एमएलडी पानी ही मिला जो कि आम दिनों की तुलना में 6 एमएलएलडी कम है।

सभी परियोजनाओं से मिला 37 एमएमलडी पानी

शनिवार को शिमला शहर को सभी परियोजनाओं से 37.16 एम एलडी पानी मिल पाया है। गुम्मा के अलावा गिरी से 16.88 एमएलडी, चुरट से 1.88 एमएलडी, सियोग से 0.19 एमएलडी, चैयड़ से 0.45 एमएलडी और कोटी-बरांडी से 1.61 एमएलडी पानी मिला है। बीते चार दिनों से शिमला शहर में 35 से 37 एमएलडी पानी पहुंच रहा है जो कि आम दिनों की तुलना में 6 से 7 एमएमलडी कम है।

आने वाले दिनों में पानी का संकट गहराने के आसार

गर्मियां बढ़ने के साथ ही पेयजल परियोजनाओं में पानी की कमी होने लगी हैं। इससे सभी परियोजनाओं का जल स्तर गिरने लगा हैं। अबकी बार बर्फबारी और बारिश कम हुई है, इससे पानी की जलस्तर लगातार घट रहा है। अगर समय पर बारिश नहीं हुई तो इससे आने वाले समय में पानी का संकट और गहरा सकता है।

^उधर एसजेपीएनएल के एजीएम राजेश कश्यप का कहना है कि पेयजल परियोजनाओं में सफाई का शैड्यूल पहले से निर्धारित किया गया है और इसके अनुरूप ही परियोजनाओं और वाटर टैंक में सफाई की जा रही है। उनका कहना है कि शनिवार को चाबा में सफाई की गई है, जिससे शहर को पानी की सप्लाई प्रभावित हुई। जल्द ही शहर में पानी की सप्लाई सुचारू कर दी जाएगी।

खबरें और भी हैं...