गैर शिक्षक कर्मचारियाें काे दी जीत की बधाई:हिमाचल प्रदेश विश्विद्यालय में माकपा का आदाेलन करने वाले कर्मियों का समर्थन

शिमला9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

माकपा की शिमला जिला कमेटी हिमाचल प्रदेश विश्विद्यालय में गैर शिक्षक कर्मचारी यूनियन के चुनाव में विजयी सभी पदाधिकारियों को बधाई देती है। इसके साथ ही विश्व विद्यालय के तमाम कर्मचारी वर्ग को इस बड़ी जीत का हकदार मानती है जिन्होंने सरकार व प्रशासन के हर प्रकार के दबाव को नजरअंदाज कर सीधे रूप में बीजेपी समर्थित सभी उम्मीदवारों को नकार दिया है। यह परिणाम बीजेपी की केंद्र व राज्य की सरकार की मजदूर, किसान, कर्मचारी व आमजन विरोधी नीतियों और विश्विद्यालय प्रशासन के तानाशाहपूर्ण व भेदभावपूर्ण रवैय के विरुद्ध जनादेश है।

माकपा जिला सचिव संजय चाैहान ने कहा कि बीजेपी की केंद्र व राज्य सरकार की जनविरोधी नीतियों के विरुद्ध आज मजदूर, किसान, कर्मचारी व अन्य वर्ग इनका विरोध कर रहे है। सरकार पूरे तानाशाहपूर्ण रवैय से आज देश व प्रदेश में मजदूर व किसान के साथ ही साथ कर्मचारी विरोधी नीतियों को लागू कर रही है।

आज सरकार ने सभी विभागों में नियमित भर्तियों पर रोक लगा रखी है और समस्त भर्तियां ठेका, आउटसोर्स, पार्ट टाइम व अन्य रूप में की जा रही है और इसमें अपने चहेतों को लाभ दिया जा रहा। बीजेपी की सरकार ने हिमाचल प्रदेश में मई, 2003 से व देश मे जनवरी, 2004 से पुरानी पेंशन व्यवस्था को समाप्त कर नई राष्ट्रीय पेंशन योजना आरंभ कर कर्मचारियों के अधिकार को समाप्त किया है।

आज कर्मचारी दशकों तक अपनी सेवाएं देने के बाद सेवानिवृत्ति के पश्चात अपना जीवन यापन करने से भी वंचित कर दिया गया है। पेंशन कर्मचारी का हक है और इसको सरकार द्वारा इस प्रकार से नई योजना के रूप में लाकर समाप्त करना बिल्कुल भी न्यायउचित नही है। यह कर्मचारी विरोधी निर्णय है व सरकार को तुरंत इस कर्मचारी विरोधी एनपीएस को निरस्त कर पुरानी पेंशन व्यवस्था को बहाल कर कर्मचारियों को उनका हक देना चाहिए।

खबरें और भी हैं...