जानिए, कोरोना वैक्सीनेशन में हिमाचल कैसे बना चैंपियन:वैक्सीन लगाने के लिए 6 घंटे पैदल चढ़ाई चढ़ी; जहां मोबाइल नेटवर्क नहीं आता, वहां भी टीका लगाने पहुंचे हेल्थकेयर वर्कर्स

शिमलाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना वैक्सीन का पहला डोज लगाने का लक्ष्य पूरा करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअली हिमाचल प्रदेश के 6 लोगों से संवाद किया। उन्होंने शिमला, कुल्लू, ऊना, हमीरपुर, मंडी और लाहौल-स्पीति के लोगों से बात की। उनसे पूछा कि वैक्सीनेशन को लेकर किस तरह की परेशानियां हुईं। लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए किस तरह से प्रोत्साहित किया। जिन लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी से बात की, आइए जानते हैं वे वैक्सीनेशन पर क्या कहते हैं?

22 हजार से ज्यादा लोगों को टीका लगा चुकी हैं कर्मो देवी
ऊना जिला की MCH कर्मों देवी ने दैनिक भास्कर से बातचीत करते हुए कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर लोगों में पहले डर था। लोग वैक्सीनेशन के लिए आगे नहीं आ रहे थे। ऐसे में काफी परेशानी हो रही थी। टारगेट पूरा नहीं हो पा रहा था। लोगों से बात की। उन्हें समझाया और इसकी बदौलत वह 22,500 लोगों को टीका लगा चुकी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके काम की तारीफ की और कहा कि उनका जज्बा ही है, जिसकी बदौलत आज हिमाचल 100% लोगों को पहला डोज लगा चुका है।

कंधों पर वैक्सीनेशन बैग लेकर पहुंचे गांव-गांव

कुल्लू के मलाणा की आशा वर्कर निर्मला देवी ने भी वैक्सीनेशन कार्यक्रम में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर सबसे ज्यादा परेशानी ग्रामीण क्षेत्रों में आई है, क्योंकि मलाणा के कई गांव ऐसे भी हैं, जहां पर 6 घंटे पैदल चलकर पहुंचना पड़ता है। ऐसे में कंधों पर वैक्सीनेशन के सामान का बैग उठाकर वह गांव-गांव तक लोगों को वैक्सीन लगाने के लिए पहुंचीं। लोगों को जागरूक भी किया और ग्रामीणों ने भी सहयोग किया। प्रधानमंत्री उनके काम को सराहा और कहा कि मलाणा जैसे दुर्गम क्षेत्र में जिस तरह से उन्होंने वैक्सीनेशन किया है, वह तारीफ के काबिल है।

गोंपाओ की मदद से लोगों को किया जागरूक
हिमाचल के जनजातीय क्षेत्र लाहौल स्पीति के निवांग उपासक ने कहा कि वैक्सीनेशन को लेकर लाहौल स्पीति के लोगों में काफी भ्रम था। लोग वैक्सीन लगाने के लिए आगे नहीं आ रहे थे। ऐसे में उन्होंने गोंपाओ से मदद ली। पूजा पाठ करने के जरिए सभी लोगों को जमा किया और उन्हें जागरूक किया। गोंपाओ ने लोगों को बताया कि अगर वैक्सीन लगवाते हैं तो महामारी खत्म हो जाएगी। इससे किसी भी तरह की कोई दिक्कत नहीं होगी।फिर लोग वैक्सीन लगाने के लिए बाहर निकले। इसके अलावा उन्होंने दलाई लामा का वैक्सीन लगवाने का वीडियो भी ग्रामीणों को दिखाया। फिर लोगों ने वैक्सीनेशन कराया और इस तरह सबसे पहले लाहौल स्पीति वैक्सीनेट हुआ। कई गांव ऐसे भी हैं, जहां पर उन्हें काफी परेशानी हुई। 2- 2 घंटे पैदल चलकर वहां पर पहुंचना पड़ता था।

बुजुर्गों को समझाकर लगवाई वैक्सीन
मंडी जिला के सिराज के रहने वाले दयाल सिंह ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से बातचीत की। उन्होंने भी यही कहा कि उन्हें वैक्सीनेशन करवाने और लोगों को प्रोत्साहित करने में किसी भी तरह की परेशानी नहीं हुई। लोग खुद वैक्सीन लगाने के लिए आगे आते रहे। कुछ बुजुर्गों में वैक्सीन को लेकर डर जरूर था, लेकिन समझाने के बाद उन्होंने वैक्सीन लगवाई और हिमाचल पहली डोज के साथ वैक्सीनेट हो चुका है।

84 साल की निर्मला बोलीं- वैक्सीन को लेकर कोई डर नहीं
हमीरपुर के वार्ड-2 में रहने वाली 84 साल की निर्मला देवी ने कहा कि वैक्सीन लगाने के बाद उनकी बाजू में जो दर्द होता था, वह खत्म हो गया। वैक्सीन को लेकर किसी भी तरह का डर और भ्रम लोगों के बीच नहीं होना चाहिए। इससे किसी भी तरह के साइड इफेक्ट नहीं होते। उन्होंने बताया कि पहला टीका उन्होंने अस्पताल में लगवाया, जबकि दूसरा टीका उन्हें घर आकर स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने लगाया। नरेंद्र मोदी से बात करके वह काफी खुश हैं और लोगों से भी अपील करती हैं कि टीका लगवाएं, इससे कोई दिक्कत नहीं होती।

जहां मोबाइल सिग्नल नहीं, वहां भी टीका लगाने पहुंचे
शिमला जिला के दुर्गम क्षेत्र डोडराक्वार में तैनात डॉ. राहुल से भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बात की। डॉ. राहुल ने दैनिक भास्कर से कहा कि लोगों को वैक्सीनेशन के लिए जागरूक करने के लिए लोकल भाषा में उन्हें जानकारी दी। इसके अलावा लोगों की काउंसलिंग भी की गई। गर्भवती महिलाएं टीका लगवाने से डर रही थीं, उन्हें भी जागरूक किया गया। यह इलाका ऐसा है, जहां पर मोबाइल सिग्नल तक नहीं होता। बावजूद इसके उन्होंने यहां पर सभी को पहला डोज लगा दिया है। उनकी टीम कंधों पर बैग उठाकर गांव-गांव तक पहुंची। यहां पर सबसे लास्ट में 5 अप्रैल को वैक्सीनेशन कार्यक्रम शुरू हुआ और तकरीबन सभी लोगों को यहां पर वैक्सीन लगाई जा चुकी है।

कांगड़ा जिला के बड़ा बंगाल में हेलीकॉप्टर से पहुंचाई गई वैक्सीन।
कांगड़ा जिला के बड़ा बंगाल में हेलीकॉप्टर से पहुंचाई गई वैक्सीन।

PM मोदी ने टीम के रूप में काम करने के लिए सभी को दी बधाई

इससे पहले PM नरेंद्र मोदी ने हिमाचल प्रदेश में 100 प्रतिशत लोगों को वैक्सीनेशन की पहला डोज लगवाने पर बधाई दी। वर्चुअली बात करते हुए मोदी ने कहा- राज्य में एक तिहाई आबादी को दूसरा डोज भी लग चुका है। उम्मीद है हिमाचल दूसरा डोज लगाने में भी नंबर वन बनेगा। मोदी ने हिमाचल में एक टीम की भांति सरकार, अधिकारियों, कर्मचारियों और लोगों को मिलकर काम करने के लिए सभी को बधाई दी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के लोगों ने वैक्सीनेशन के बारे में अफवाहों पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं दिया। 100 प्रतिशत लोगों को वैक्सीन अपने आप में लोगों की कर्तव्यनिष्ठा को दर्शाता है।

हिमाचल के दुर्गम क्षेत्र डोडराक्वार में वैक्सीन लगाने के लिए पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी।
हिमाचल के दुर्गम क्षेत्र डोडराक्वार में वैक्सीन लगाने के लिए पहुंचे स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी।
खबरें और भी हैं...