• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • The President Gave Instructions To The Administration That There Should Be No Such System That Causes Trouble To The General Public, People Said That It Is Their Responsibility To Protect The President

सुरक्षा प्रबंधों से लोगों को परेशान देख नाराज हुए राष्ट्रपति:प्रशासन को दिए निर्देश- ऐसी कोई व्यवस्था न हो, जिससे आम जनता को दिक्कत हो, लोगों का जवाब- आपकी सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी

शिमला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
राजभवन में आयोजित रात्रि भोज के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम का लुत्फ उठाते राष्ट्रपति व अन्य। - Dainik Bhaskar
राजभवन में आयोजित रात्रि भोज के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम का लुत्फ उठाते राष्ट्रपति व अन्य।

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हिमाचल के दौरे पर हैं। शिमला में उनके ठहरने के चलते प्रशासन की ओर से लोगों पर कई तरह की पाबंदियां लगा दी गई हैं। जिससे आम जनता को परेशानी हो रही है। लेकिन जैसे ही राष्ट्रपति को इस बात का पता चला कि उनके दौरे के दौरान लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है, वे नाराज हो गए।

उन्होंने प्रशासन को हिदायत देते हुए कहा कि उनकी मूवमेंट के दौरान ऐसी कोई व्यवस्था नहीं होनी चाहिए, जिससे लोगों को परेशानी हो। इसके बाद प्रशासन ने रिज मैदान पर उनकी मूवमेंट के दौरान जिन दुकानों को बंद करने का निर्णय लिया था, उन्हें खुला रखने के आदेश दिए। एक तरफ लोगों की आवाजाही भी सुचारु रूप से चलती रही और राष्ट्रपति के परिवार का घूमना भी। राष्ट्रपति के इस निर्णय के बाद शिमला के लोगों में खुशी का माहौल है।

ये सुरक्षा व्यवस्था की गई थी
दरअसल होना यह था कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का काफिला राजभवन की ओर माल रोड से होकर गुजरना था। इसलिए प्रशासन ने कारोबारियों को निर्देश दिए थे कि जब यहां से राष्ट्रपति का काफिला गुजरेगा तो उन्हें अपनी दुकानों के शटर डाउन करने पड़ेंगे और आम लोगों को भी इस मूवमेंट के दौरान रिज व माल रोड पर आने की इजाजत नहीं रहेगी। इसलिए व्यापारियों समेत स्थानीय लोग प्रशासन के इस निर्णय से खासे नाराज चल रहे थे।

लोगों का कहना था कि अगर प्रशासन को वीआईपी मूवमेंट करनी है तो आम जनता को क्यों परेशानी में डाल रहे हैं। किसी और तरीके से भी इसका हल निकाला जा सकता है। अगर राष्ट्रपति की सुरक्षा की बात है तो इसमें प्रशासन ही नहीं शिमला की जनता भी मुस्तैद है। राष्ट्रपति शिमला आए हैं और उनकी सुरक्षा का पहला जिम्मा यहां की जनता का है।

राजभवन में कलाकारों के साथ सामूहिक चित्र में राष्ट्रपति व अन्य।
राजभवन में कलाकारों के साथ सामूहिक चित्र में राष्ट्रपति व अन्य।

राष्ट्रपति को पता लगा तो वे खासे नाराज हुए
जब राष्ट्रपति को पता चला कि उनके शिमला प्रवास के दौरान लोगों को परेशानियां हो रही हैं तो उन्होंने प्रशासन को निर्देश दिए कि लोगों को परेशान न किया जाए। इसके बाद जब शुक्रवार शाम को राष्ट्रपति का काफिला राजभवन के लिए रिज मैदान और माल रोड से गुजरा तो दुकानें खुली रहीं। लोग भी घूम रहे थे। पुलिस ने और की सड़क काफिले के लिए खोल रखी थी।यहां पर लोगों को चलने से मना किया हुआ था, जबकि सड़क की दूसरी तरफ से लोग आसानी से चल रहे थे। ऐसे में राष्ट्रपति के इस निर्णय के बाद लोग काफी खुश दिखे। वहीं दुकानदारों के चेहरे भी खिले रहे। दुकानदारों और स्थानीय लोगों का कहना था कि प्रशासन को राष्ट्रपति के कहने से पहले ही इस तरह की व्यवस्था करनी चाहिए थी।

राष्ट्रपति के सम्मान में राजभवन में हुआ सांस्कृतिक कार्यक्रम
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के सम्मान में राजभवन में शुक्रवार को रात्रि भोज का आयोजन किया गया। इसके अलावा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी हुए। राष्ट्रपति को रात्रि भोज में गुच्छी की सब्जी समेत बाथू की खीर भी परोसी गई। इसके अलावा भी कई व्यंजन बनाए गए। कलाकारों ने हिमाचली वेशभूषा में राष्ट्रपति के समक्ष कार्यक्रम प्रस्तुत किए। कलाकारों ने सिरमौरी नाटी और कांगड़ा का जमाखड़ा प्रस्तुत किया। इस मौके पर राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, प्रदेश उच्च न्यायालय के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश रवि मलिमथ भी मौजूद रहे। उन्होंने राजभवन पहुंचने पर राष्ट्रपति का स्वागत किया।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की पुत्री रिज मैदान पर टहलते हुए।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की पुत्री रिज मैदान पर टहलते हुए।
खबरें और भी हैं...