हिमाचल में कांग्रेस के 2 MLA BJP में शामिल:पवन काजल और लखविंद्र राणा ने छोड़ी पार्टी; CM ने दिल्ली में दिलाई भाजपा की मेंबरशिप

शिमला3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हिमाचल में लगभग साढ़े 3 महीने बाद होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले, बुधवार को बड़ा सियासी उलटफेर देखने को मिला। प्रदेश में 5 साल से विपक्ष में बैठी कांग्रेस के 2 सीटिंग MLA पार्टी छोड़कर सत्तारूढ़ भाजपा में शामिल हो गए। कांग्रेस के कांगड़ा के विधायक पवन काजल और नालागढ़ के MLA लखविंद्र राणा को नई दिल्ली में CM जयराम ठाकुर ने भाजपा मुख्यालय में पार्टी की सदस्यता दिलाई।

नालागढ़ से विधायक लखविंद्र राणा को पार्टी का पटका पहनाकर स्वागत करते हुए सीएम जयराम ठाकुर।
नालागढ़ से विधायक लखविंद्र राणा को पार्टी का पटका पहनाकर स्वागत करते हुए सीएम जयराम ठाकुर।

कांग्रेस के लिए इसे बड़े झटके के तौर पर देखा जा रहा है। खासकर पवन काजल का जाना कांग्रेस के लिए झकझोरने वाली खबर है क्योंकि दो बार के विधायक पवन काजल को OBC समुदाय के बड़े नेता के तौर पर देखा जाता हैं। कांगड़ा जिला में उनके भाजपा से शामिल होने से यहां के सियासी समीकरण बदल सकते हैं क्योंकि कांगड़ा जिला ही हिमाचल की सत्ता की चाबी किसे देनी है, यह तय करता है। हालांकि कांग्रेस ने OBC वोट पर पकड़ मजबूत रखने के लिए चंद्र कुमार को वर्किंग प्रेजिडेंट बना दिया है।

वहीं सोलन जिला के नालागढ़ विधानसभा हल्के दो बार के विधायक लखविंद्र राणा ने भी 17 साल तक कांग्रेस का साथ निभाने के बाद पार्टी का साथ छोड़ दिया है। भाजपा की सदस्यता लेने के बाद पवन काजल ने कहा कि कांगड़ा विधानसभा क्षेत्र की जनता की भावनाओं की कदर करते हुए उन्होंने यह बदलाव किया है।

भाजपा में शामिल होने के बाद कांगड़ा से विधायक पवन काजल।
भाजपा में शामिल होने के बाद कांगड़ा से विधायक पवन काजल।

परिवारवाद से घिरी कांग्रेस, इसलिए छोड़ी पार्टी: राणा

लखविंद्र राणा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी देश और प्रदेश में परिवारवाद से घिरी हुई है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में आम आदमी को कभी भी देश व प्रदेश में अध्यक्ष बनने का अवसर नहीं मिलता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह, जगत प्रकाश नड्‌डा के देश के प्रति समर्पण की भावना को देखते हुए उन्होंने पार्टी को छोड़ने का निर्णय लिया है।

राणा के दल-बदल से कांग्रेस-BJP के समीकरण बदले:CONG में बावा की सक्रियता से पार्टी छोड़ने को मजबूर हुए लखविंदर, BJP में KL ठाकुर की मुश्किलें बढ़ी

कांग्रेस के वर्किंग प्रेजिडेंट रहे पवन काजल

अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इसी साल मई माह ही पवन काजल को हिमाचल कांग्रेस का वर्किंग प्रैजिडेंट बनाया था। उनके भाजपा में जाने की अटकलों के बीच बीती शाम ही कांग्रेस ने इस पद से हटा दिया था। इसी तरह लखविंद्र राणा भी प्रदेश कांग्रेस के उपाध्यक्ष रहे हैं।

कांग्रेस की आंखों का 'काजल' चुराने में BJP कामयाब:2012 में भाजपा का टिकट न मिलने पर हो गए थे बागी, निर्दलीय जीतकर पहुंचे विधानसभा

भाजपा को भी झटका देने की तैयारी में कांग्रेस

बेशक कांग्रेस के दो विधायक भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए हैं। इस बीच भाजपा विधायक अनिल शर्मा भी कांग्रेस में शामिल हो सकते है। कांग्रेस नेताओं ने उन्हें पार्टी में जल्द शामिल कर BJP को भी झटका देने की तैयारी कर ली है। पार्टी इसे डेमेज कंट्रोल के तौर पर देख रही है।

दिल्ली में पावन काजल को फूलों का गुलदस्ता देते हुए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप।
दिल्ली में पावन काजल को फूलों का गुलदस्ता देते हुए भाजपा प्रदेशाध्यक्ष सुरेश कश्यप।

महेंद्र सिंह और सुक्खू की गुप्त बैठक के बाद और गरमाई सियासत

इस बीच राज्य के बागवानी मंत्री महेंद्र सिंह ठाकुर और कांग्रेस नेता सुखविंद्र सिंह सुक्खू की बीती रात सुंदरनगर में हुई गुप्त बैठक के बाद सियासी गलियारों में अलग तरह की चर्चाओं का बाजार गर्म हो गया है। इन चर्चाओं को सुखविंद्र सुक्खू का वह बयान हवा दे रहा है जो उन्होंने सदन में दिया था। दरअसल, सुक्खू ने सदन में कहा था कि जयराम सरकार के कुछ मंत्री भी कांग्रेस के संपर्क में है। यही वजह है कि राज्य महेंद्र सिंह और सुक्खू की इस मुलाकात के अलग सियासी मायने निकाले जा रहे हैं।