पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

छात्राें काे नया सत्र शुरू हाेने का इंतजार:नए सेशन के लिए करना हाेगा इंतजार, तय नहीं हुआ कब होंगी पीजी की प्रवेश परीक्षाएं

शिमला7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
एचपीयू में ईसी बैठक की अध्यक्षता वीसी प्रो. सिकंदर कुमार ने की। - Dainik Bhaskar
एचपीयू में ईसी बैठक की अध्यक्षता वीसी प्रो. सिकंदर कुमार ने की।
  • मई में शुरू हाेना था नया सेशन, ईसी की बैठक में भी नहीं हुई चर्चा
  • पिछले साल एक मई तक प्रवेश प्रक्रिया हो चुकी थी पूरी

पाेस्ट ग्रेजुएशन करने के लिए आवेदन फाॅर्म भरने वाले छात्राें काे नया सत्र शुरू हाेने के लिए अभी भी इंतजार करना पड़ेगा। मई महीने में शुरू हाेने वाला नया सेशन अभी तक शुरू नहीं हाे पाया है। छात्राें काे उम्मीद थी कि इस बार हाेने वाली ईसी की बैठक में इसे एजेंडे के ताैर पर पेश किया जाएगा, लेकिन ईसी की बैठक में न ताे इस पर चर्चा हुई और न ही निर्णय हुआ कि कब से प्रवेश प्रक्रिया शुरू हाेगी। अंतिम समय में ईसी के एजेंडे से इस मुद्दे काे हटा दिया गया। विवि प्रशासन का कहना है कि अभी इस पर काेई निर्णय नहीं लिया गया है। यूजी कक्षाओं में छात्रों को प्रमोट करने का प्रस्ताव भी सरकार को भेजने पर बात हुई।

हालांकि, एचपीयू के संस्थान यूनिवर्सिटी काॅलेज ऑफ बिजनेस स्टडीज ने बीबीए और बीसीए में बिना लिखित परीक्षा करवाए ही मेरिट पर प्रवेश दे दिया है। जबकि, एचपीयू प्रशासन अभी तक न ताे लिखित परीक्षा करवा पाया है और न ही मेरिट के आधार पर प्रवेश दे रहा है। एचपीयू में पीजी कोर्स में प्रवेश के लिए पिछली बार एक मई तक प्रवेश प्रक्रिया पूरी हो गई थी।

जबकि इस बार एडमिशन प्रक्रिया में काफी देरी हाे गई है। एमएमसी (फिजिक्स, केमेस्ट्री, बॉटनी, जूलॉजी, जियोग्राफी, मैथेमेटिक्स), एमए (फिजिकल एजूकेशन, इंग्लिश, सोशल वर्क), एमएड, डीएचआरडी, पीजीडीएमसी, एलएलबी (तीन वर्षीय), एमएबीई, एमए (हिंदी ट्रांसलेशन, संस्कृत, म्यूजिक, अर्थशास्त्र, समाजशास्त्र, लोक प्रशासन, राजनीति विज्ञान, साइकोलॉजी, इतिहास, विजुअल आर्ट (पेंटिंग) योगा स्टडीज, ग्रामीण विकास और एमकॉम कोर्स के लिए विवि प्रशासन ने आवेदन मांगे थे।

पीठाध्यक्षाें की नियुक्ति कार्यकारी परिषद ने विभिन्न पीठों के पीठाध्यक्षों के लिए आयोजित की गई चयन समिति की सिफारिशाें को स्वीकृति प्रदान की है। जिसमें भारत रत्न डाॅ. भीमराव अंबेडकर पीठ में डाॅ. हरि मोहन, दीन दयाल उपाध्याय पीठ में डाॅ. मनोज चतुर्वेदी, डाॅ. यशवंत सिंह परमार पीठ में डाॅ. ओपी शर्मा, डाॅ. केशव बलिराम हेडगेवार पीठ में डाॅ. दिनेश शर्मा और डाॅ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी पीठ में आचार्य श्रीराम शर्मा के नामों को स्वीकृति दी।

इन विभागाें में आ रहे कम आवेदनः एचपी यूनिवर्सिटी के कुछ विभाग ऐसे हैं, जहां पिछले तीन से चार सालाें में कम आवेदन आ रहे हैं। इनमें जर्नलिज्म डिपार्टमेंट, एमएबीई, हाेटल मैनेजमेंट और अन्य कुछ विभाग है, जहां कम आवेदन आ रहे हैं। ऐसे में विवि प्रशासन ने निर्णय लिया है कि अगर आवेदन कम आते हैं ताे इनके लिए एंट्रेंस टेस्ट नहीं रखे जाएंगे। क्याेंकि, अधिकतर छात्र कम आवेदन आने पर एंट्रेंस टेस्ट देने में रूचि नहीं रखते हैं। जबकि अन्य विभागाें में इस बार काफी आवेदन आए हैं, इसमें किस आधार पर एडमिशन हाेगी ये तय नहीं हाे पा रहा है।

शिक्षकाें-गैर शिक्षकाें काे रेगुलर करने काे भी मंजूरीः हिमाचल प्रदेश यूनिवर्सिटी की सर्वाेच्च संस्था कार्यकारिणी परिषद ने एचपीयू, क्षेत्रीय केंद्र धर्मशाला, यूआईआर्ईटी, यूआईएलएस, बीबीए/बीसीए में विभिन्न श्रेणियों में कार्य कर रहे शिक्षकों और गैर शिक्षक कर्मचारियों काे रेगुलर के लिए गठित समिति की सिफारिशाें को मंजूरी प्रदान की। ऐसे में अब साफ हाे गया है कि जाे शिक्षक और गैर शिक्षक पिछले काफी समय से रेगुलर हाेने की राह देख रहे थे, उन्हें प्रशासन की ओर से नियमित कर दिया जाएगा।

गैर शिक्षकाें के खाली और अन्य पद भरे जाएंगेः कार्यकारिणी परिषद ने विश्वविद्यालय में शिक्षकों और गैर शिक्षकों के बाकी खाली बचे पदों को भरने के लिए विज्ञापन जारी करने की स्वीकृति प्रदान कर दी है। जल्द ही अब इसके लिए विज्ञापन जारी किया जाएगा। इससे पहले वीसी प्राे. सिकंदर कुमार ने नव निर्वाचित सदस्य विपिन कुमार का स्वागत किया और उन्हें बधाई दी, उनकी मांगाें काे पूरा करने का आश्वासन भी दिया। ईसी सदस्याें ने पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर दो मिनट का मौन रखकर उन्हें श्रद्धांजलि भी दी।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आसपास का वातावरण सुखद बना रहेगा। प्रियजनों के साथ मिल-बैठकर अपने अनुभव साझा करेंगे। कोई भी कार्य करने से पहले उसकी रूपरेखा बनाने से बेहतर परिणाम हासिल होंगे। नेगेटिव- परंतु इस बात का भी ध...

    और पढ़ें