सिरमौर में रात 10 बजे के बाद आतिशबाजी नहीं:अस्पताल, स्कूल, कोर्ट और धार्मिक स्थलों के पास नहीं चलेंगे पटाखे, बिना लाइसेंस बेच नहीं सकेंगे

नाहनएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नाहन में पटाखों को लेकर आदेश जारी। - Dainik Bhaskar
नाहन में पटाखों को लेकर आदेश जारी।

हिमाचल प्रदेश के सिरमौर जिले में प्रशासन ने लोगों से ईको फ्रेंडली दिवाली मनाने की अपील की है। साथ ही रात 10 बजे के बाद आतिशबाजी पर रोक लगा दी है। अब बिना लाइसेंस कोई दुकानदार पटाखे बेच भी नहीं सकेगा।

सिरमौर के उपायुक्त रामकुमार गौतम ने अपील करते हुए कहा कि इस वर्ष सभी लोग ईको फ्रेंडली दिवाली मनाने का प्रयास करें। इससे उत्सव सुरक्षित होने के साथ-साथ भव्य होगा। उन्होंने कहा कि दिवाली के अवसर पर सस्ते में उपलब्ध पटाखों की वजह से पर्यावरण में जहरीली गैसों के कारण प्रदूषण बढ़ता है और कई प्रकार की खतरनाक बीमारियों का कारण बनती हैं। साथ ही वायु प्रदूषण और ध्वनि प्रदूषण भी बढ़ जाता है। उन्होंने कहा कि प्रशासन समेत सभी की यह जिम्मेदारी है कि पर्यावरण को साफ और स्वच्छ रखने के लिए जिम्मेदारी निभाएं।

डीसी ने कहा कि सिरमौर जिले में चयनित स्थानों पर ही पटाखे बिकेंगे और बेचने के लिए संबंधित उपमंडल अधिकारी से लाइसेंस लेना अनिवार्य होगा। दिवाली के दौरान संबंधित पंचायत, नगर परिषद व नगर पंचायतों द्वारा चयनित एवं उपलब्ध कराए स्थानों पर ही पटाखों की बिक्री हो सकेगी। जारी निर्देशों के अनुसार चयनित स्थान पर आतिशबाजी और पटाखों को शेड में रखना होगा जोकि गैर ज्वलनशील सामग्री से अलग हो। उस शेड में किसी अन्य व्यक्ति का प्रवेश नहीं हो सकेगा। बिक्री स्थल से 50 मीटर के दायरे में आतिशबाजी और पटाखे चलाने की अनुमति नहीं होगी।

सुबह 6 बजे से रात 10 बजे तक चलेंगे पटाखे

जिले में सुबह 6 बजे से पहले और रात को 10 बजे के बाद पटाखे चलाने पर प्रतिबंध रहेगा। वहीं, साइलेंस जोन जैसे अस्पताल, स्कूल, न्यायिक अदालत और धार्मिक स्थलों से 100 मीटर के दायरे तक आतिशबाजी पर पूर्णतया प्रतिबंध रहेगा। सभी संबंधित विभागों को किसी भी आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए आवश्यक प्रबंध करने के दिशा निर्देश जारी कर दिए हैं।

खबरें और भी हैं...