PM मोदी ने किया ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअल उद्घाटन:पांवटा साहिब अस्पताल में लगाया गया 1000 लीटर उत्पादन की क्षमता का प्लांट, एक साथ 100 मरीज होंगे लाभान्वित

नाहन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्चुअल ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन करते हुए। - Dainik Bhaskar
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वर्चुअल ऑक्सीजन प्लांट का उद्घाटन करते हुए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांवटा साहिब सिविल अस्पताल में पीएम केयर योजना के अंतर्गत नवनिर्मित 1000 एलपीएम ऑक्सीजन प्लांट का वर्चुअली शुभारंभ किया। पांवटा साहिब अस्पताल में वर्चुअली संवाद स्थापित करने के लिए दो बड़े स्क्रीन लगाए किए गए थे। जिसके माध्यम से क्षेत्रवासियों ने पीएम केयर योजना के शुभारंभ कार्यक्रम का सीधा प्रसारण देखा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पीएम केयर योजना ऑक्सीजन प्लांट के वर्चुअल शुभारंभ के पश्चात बहुउद्देशीय परियोजनाएं एवं ऊर्जा मंत्री हिमाचल प्रदेश सुख राम चौधरी ने ऑक्सीजन प्लांट का लोकार्पण किया। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्चुअली पांवटा साहिब सहित देश के अन्य प्रदेशों में स्थापित किए गए ऑक्सीजन प्लांटों का भी शुभारंभ किया।

कार्यक्रम के दौरान उपस्थित भाजपा नेता व अन्य।
कार्यक्रम के दौरान उपस्थित भाजपा नेता व अन्य।

ऑक्सीजन प्लांट के शुभारंभ के बाद पांवटा क्षेत्र में आगामी कई वर्षों तक अस्पताल में ऑक्सीजन की आपूर्ति होगी। वहीं इस ऑक्सीजन प्लांट के शुभारंभ से सिविल अस्पताल पांवटा साहिब में 100 बिस्तरों पर सीधे पाइप के माध्यम से ऑक्सीजन की सुविधा उपलब्ध होगी। अस्पताल प्रशासन को बाहर से ऑक्सीजन सिलेंडर लेने की आवश्यकता नहीं होगी।

इस अवसर पर उपाध्यक्ष राज्य खाद्य आपूर्ति निगम बलदेव तोमर, भाजपा मंडल अध्यक्ष अरविंद गुप्ता, नगर पालिका परिषद की अध्यक्षा निर्मल कौर, एपीएमसी अध्यक्ष रामेश्वर शर्मा, उपायुक्त सिरमौर राम कुमार गौतम, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. संजीव सहगल तथा अन्य अधिकारी व गणमान्य व्यक्ति मौजूद रहे।

ऑक्सीजन प्लांट के लगने से हजारों की आबादी होगी लाभान्वित

ऑक्सीजन प्लांट के लगने से हजारों की आबादी लाभान्वित होगी। इससे पहले इलाके में ऑक्सीजन प्लांट नहीं होने से लोगों को परेशानियां उठानी पड़ती थी। अब इस प्लांट के चालू हो जाने से लोगों को दिक्कतें नहीं होगी। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान यहां पर मरीजों को ऑक्सीजन की कमी से जूझना पड़ा थी। अब अगर तीसरी लहर आती है तो 100 मरीज ऑक्सीजन स्पोर्ट पर रखे जा सकेंगे।

खबरें और भी हैं...