बाला सुंदरी मंदिर त्रिलोकपुर में श्रद्धालुओं की अटूट श्रद्धा:5 किलो चांदी व 17 ग्राम सोने से जड़ित छत्र किया भेंट

काला अंब4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रसिद्ध शक्तिपीठ महामाया बाला सुंदरी मंदिर त्रिलोकपुर। - Dainik Bhaskar
प्रसिद्ध शक्तिपीठ महामाया बाला सुंदरी मंदिर त्रिलोकपुर।

हिमाचल में उत्तर भारत के प्रसिद्ध शक्ति पीठ महामाया बाला सुंदरी मंदिर त्रिलोक पुर में दिल्ली के एक श्रद्धालु ने सोने व चांदी से जड़ी क्षेत्र चढ़ाया है। छत्र 5 किलोग्राम चांदी व 17 ग्राम सोने से बना है। फिलहाल मंदिर प्रबंध द्वारा छत्र के वजन को लेकर कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

महामाया बाला सुंदरी मंदिर में चढ़ने वाले दान निर्धारित समय पर गिनती की जाती है। मंदिर वे चढ़ने वाले सोने व चांदी के वजन व क्वालिटी का आकलन मंदिर न्यास द्वारा नियुक्त किए गए सुनार द्वारा ही किया जाता है। फिलहाल सुधार द्वारा वजन व क्वालिटी को लेकर कोई आकलन नहीं किया गया है।

सुनार द्वारा आंदोलन किए जाने के बाद मंदिर न्यास त्रिलोकपुर द्वारा छत्र के वजन व क्वालिटी का आंकलन करने के बाद इसकी वैल्यू निकाली जाएगी।

सोने व चांदी छत्र।
सोने व चांदी छत्र।

माता बाला सुंदरी मंदिर में श्रद्धालुओं की अपार श्रद्धा
महामाया माता बाला सुंदरी मंदिर में श्रद्धालुओं की अपार श्रद्धा है। यहां पर हिमाचल प्रदेश के अलावा राजस्थान, उत्तराखंड, हरियाणा व दिल्ली आदि राज्यों से श्रद्धालु भारी संख्या में पहुंचते हैं। श्रद्धालुओं द्वारा मन्नत पूरी होने पर दान किया जाता है।

'छत्र 5 किलोग्राम चांदी व 17 ग्राम सोने से बनाट'
मंदिर परिसर अधिकारी विजय कुमार ने बताया क़ी जब मंदिर मंदिर में चढ़ाए जाने वाले चढ़ावे की जब गिनती की जाएगी। तो सुनार द्वारा वेरीफाई करने के बाद ही छत्र के वजन व मूल्य को लेकर आधिकारिक पुष्टि की जा सकती है। मगर श्रद्धालु के अनुसार यह छत्र 5 किलोग्राम चांदी व 17 ग्राम सोने से बना है। उन्होंने बताया कि यह श्रद्धालु वर्ष में 2 बार मंदिर में माथा टेकने के लिए पहुंचाता है और इस तरह का दान करता है।

खबरें और भी हैं...