पांवटा साहिब की जिज्ञासा शर्मा के बुलंद हौसले:बचपन से ही दृष्टिबाधित होते हुए पास की UGC नेट परीक्षा, क्षेत्र का नाम किया रोशन

पांवटा साहिब24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

हिमाचल के जिला सिरमौर के आंज भोज क्षेत्र के नघेता की जिज्ञासा शर्मा ने UGC नेट की परीक्षा पास करके अपने माता-पिता और परिवार नाम रोशन किया है। बता दे कि जिज्ञासा शर्मा बचपन से ही दृष्टि बाधित है।

जिज्ञासा शर्मा ने की है ये पढाई
पहली से 8वीं तक की पढ़ाई शार्प मेमोरियल स्कूल देहरादून में पूरी हुई और 8वीं से 12वीं तक CIN गर्ल्स स्कूल देहरादून और ग्रेजुएशन MKP.(PG) कॉलेज देहरादून से हुई और पोस्ट ग्रेजुएशन इंग्लिश में श्री गुरु राम राय यूनिवर्सिटी देहरादून से पूरी हुई ।

जिज्ञासा के पिता है सरकारी स्कूल में गणित के अध्यापक
जिज्ञासा के पिता राजेंद्र शर्मा सरकारी स्कूल में गणित के प्रवक्ता पद पर है और माता बबीता शर्मा सिविल हॉस्पिटल पांवटा में सीनियर नर्सिंग ऑफिसर के पद पर नियुक्त है । जिज्ञासा शर्मा ने इसी वर्ष इंग्लिश में MA पास की है और पहली बार ही नेट परीक्षा में 66.6% परसेंटेज लेकर परीक्षा उत्तीर्ण की है ।जिज्ञासा शर्मा ने इसका श्रेय अपने माता-पिता और गुरु जनों को दिया है। उनका मानना है कि अगर कठिन परिश्रम किया जाए तो कोई भी बाधा आपको नहीं रोक सकती।

जिज्ञासा शर्मा। UGC की परीक्षा करने वाली लड़की।
जिज्ञासा शर्मा। UGC की परीक्षा करने वाली लड़की।

सभी कक्षाओं में प्रथम रही जिज्ञासा
जिज्ञासा शर्मा शुरू से ही आंखों की रोशनी ना होने के बाद भी नॉर्मल स्टूडेंट के साथ कंपटीशन करती है उसकी पढ़ाई पांचवी के बाद नार्मल स्कूल में नॉर्मल स्टूडेंट के साथ ही हुई है और क्लास में 8वीं 10वीं 12वीं व ग्रेजुएशन तथा पोस्ट ग्रेजुएशन में अपने साथ के सभी बच्चों में प्रथम स्थान प्राप्त किया है।

बेटी पर पिता को गर्व
जिज्ञासा के पिता राजेन्द्र शर्मा ने कहा कि मुझे अपनी बेटियों पर गर्व है उन्होंने कहा कि मेरे पास दो बेटियां है बड़ी बेटी जिज्ञासा शर्मा जिसकी आंख की रोशनी न होने के बावजूद भी आज तक मुझे इसकी कोई कमी नहीं खली है।उसने शुरू से ही कड़ी मेहनत कर अपने माता-पिता का नाम रोशन किया है और छोटी बेटी वंशिका शर्मा देहरादून से MBBS.कर रही है।

खबरें और भी हैं...