अमृतसर-कोलकाता कॉरिडोर परियोजना:NICDC ने किया बद्दी-नालागढ़ का दौरा, 5 साल में प्रोजेक्ट को पूरा करने का लक्ष्य

नालागढ़10 दिन पहले
एनआईसीडीसी की टीम अधिकारियों के साथ।

राष्ट्रीय औद्योगिक कॉरिडोर विकास निगम सीमित (एनआईसीडीसी) की टीम ने अमृतसर-कोलकता इंडस्ट्री कॉरिडोर परियोजना के तहत हिमाचल के बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ नोड विकसित के लिए बद्दी-नालागढ़ का दौरा किया। टीम ने इंडस्ट्री डिपार्टमेंट समेत विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ इंडस्ट्री के लिए विकसित होने वाले एरिया व औद्योगिक इकाइयों का निरीक्षण किया।

टीम प्लासड़ा, किरपालपुर, आदुवाल, दभोटा व मंझौली समेत विभिन्न एरिया में पहुंची। इसके साथ टीम ने इंडस्ट्री एसोसिएशनों के पदाधिकारियों व विभिन्न विभागों के अधिकारियों के साथ बैठक भी की। एनआईसीडीसी के वाइस प्रेजिडेंट अभिषेक चौधरी ने हितधारकों व विभागों के अधिकारियों को प्रोजेक्ट को लेकर अवगत करवाया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की ओर से इस प्रोजेक्ट को गंभीरता से लेते हुए काम किया जा रहा है। प्रोजेक्ट को सीरे चढ़ाने के लिए राज्य सरकार, संबंधित विभागों व बीबीएन इंडस्ट्री का सहयोग चाहिए।

उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य एक से डेढ़ साल के भीतर इस प्रोजेक्ट को तेजी से शुरू करवाते हुए प्रोजेक्ट के लिए भूमि को विकसित किया जाएगा। इस संबंध में मास्टर प्लान और प्रारंभिक इंजीनियरिंग का कार्य शुरू किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पांच साल के भीतर इस प्रोजेक्ट को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है, जिसकी प्रक्रिया का कार्य शुरू कर दिया है। गौरतलब रहे कि केंद्र सरकार ने भारतमाला परियोजना के तहत 11 औद्योगिक कॉरि़डोर के 32 नोड में बद्दी-बरोटीवाला-नालागढ़ को शामिल किया है। इस परियोजना की अधिकतम लागत 3 हजार करोड़ होगी।

उन्होंने यह भी सांझा किया कि बीबीएन नोड की मास्टर प्लानिंग और प्रारंभिक इंजीनियरिंग शुरू की गई है। वहीं बीबीएनआईए के अध्यक्ष राजिंदर गुलेरिया व एचडीएमए के अध्यक्ष डॉ राजेश गुप्ता ने कहा कि यह परियोजना पूरे क्षेत्र के लिए एक गेम चेंजर​​​​​​​ होगी। निश्चित रूप से क्षेत्र में औद्योगिक विकास को भारी प्रोत्साहन प्रदान करेगा और राज्य में युवाओं के लिए रोजगार के अवसर पैदा करेगा।