नालागढ़ में 2021 से कम धान की पैदावार:32.079 क्विंटल मंडी में पहुंचा, किसान बोले- बीमारी के चलते खराब हुई कई हेक्टेयर फसल

नालागढ़2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नालागढ़ में मंडी में बिकने के लिए पहुंचा धान। - Dainik Bhaskar
नालागढ़ में मंडी में बिकने के लिए पहुंचा धान।

हिमाचल प्रदेश के सोलन जिले के उपमंडल नालागढ़ में धान की फसल का पिछले वर्ष की तुलना में कम उत्पादन हुआ। पिछले वर्ष 1,030 किसानों ने 42,000 क्विंटल धान बेचा था, लेकिन इस साल अभी तक किसानों की संख्या तो 1,055 हो गई, लेकिन धान 32,079 क्विंटल ही मंडी में पहुंचा है। नालागढ़ में अभी तक 426 किसान 12,230 क्विंटल धान बेच चुके हैं। मलपुर में 629 किसान 19,849 क्विंटल धान बेच चुके हैं। विभाग ने इन सभी किसानों के खाते में 6.60 करोड़ रुपए डाल दिए हैं।

फसल में बीमारी लगने से कम हुआ उत्पादन
धान की फसल कम होने का कारण फसल में रोग का लगना है, जिससे किसानों को काफी नुकसान हुआ। इस बार कई हेक्टेयर भूमि में खड़ी फसल बीमारी के चलते चौपट हो गई। नालागढ़ और मलपुर में अभी तक 32 हजार क्विंटल किसानों का धान खरीद लिया गया है। पिछले साल 42 हजार क्विंटल धान दिसंबर तक खरीदा गया था।

अभी तक 6,75,68,000 रुपए का धान किसानों से खरीदा गया है। कृषि उपज मंडी नालागढ़ के प्रभारी गंगाराम ने बताया कि अभी तक नालागढ़ और बद्दी में 1,055 किसान अपना धान बेच चुके हैं, जिसके पैसे किसानों के बैंक खाते में डाले जा चुके है। पिछले वर्ष की तुलना में इस बार धान 100 रुपए मंहगा खरीदा गया है।

खबरें और भी हैं...