शिमला में चेरी पर फाइटोप्लाजमा का अटैक:पेड़ों के सूखने पर पहुंची नौणी से वैज्ञानिकों की टीम, दवाइयों की सिफारिश

सोलन15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चेरी के पौधों में फाइटोप्लाजमा के लक्षण। - Dainik Bhaskar
चेरी के पौधों में फाइटोप्लाजमा के लक्षण।

हिमाचल में सोलन की डॉ. यशवंत सिंह परमार बागवानी व वानिकी यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों की टीम ने शिमला के बागी क्षेत्र के चेरी बगीचों के सूखने के लिए रिपोर्ट बनाई है। उन्होंने इसके पीछे का कारण फाइटोप्लाज्मा बीमारी बताया है। इसके उपचार के लिए दवाओं की सिफारिश की है।

हाल ही में बागी क्षेत्र से चेरी की पेड़ों के सूखने की समस्या सामने आई थी। इस पर नौणी ने वैज्ञानिकों की 2 टीम को प्रभावित क्षेत्र में लक्षणों का निरीक्षण करने और रोगग्रस्त पौधों के नमूने एकत्रित करने के लिए भेजा। दोनों टीमों ने उत्पादकों के साथ बातचीत की, बगीचों की स्थिति का आकलन किया और रोगग्रस्त पौधों के नमूने एकत्रित किए। बागी पंचायत के विभिन्न बगीचों का दौरा किया और प्रभावित क्षेत्र का विस्तृत सर्वेक्षण किया।

यूनिवर्सिटी के अनुसंधान निदेशक डॉ. संजीव चौहान ने समस्या की गंभीरता को समझने के लिए टीमों ने प्रभावित उत्पादकों से मुलाकात की और पाया कि समस्या केवल बागी और आसपास के क्षेत्रों तक ही सीमित है। कंडयाली क्षेत्र के चेरी उत्पादकों से भी जानकारी जुटाई गई, जो इस समस्या से प्रभावित नहीं हैं। संक्रमित पौधों की जड़ें स्वस्थ पाई गईं जिससे यह पता चला कि किसी भी मिट्टी से पैदा होने वाली बीमारी से इसका संबंध नहीं है।

संक्रमण के लक्षण फाइटोप्लाज्मा नामक एक जीवाणु के कारण होने वाले रोग से मेल खाते हैं। इसलिए, इकट्ठा किए गए नमूनों का प्रयोगशाला में फ्लोरेसेंस माइक्रोस्कोपी परीक्षण किया गया, जिससे फाइटोप्लाज्मा की उपस्थिति की पुष्टि हुई। इस रोगजनक का प्रसार आमतौर पर लीफ हॉपर नामक कीट के माध्यम से होता है।

इन दवाओं की सिफारिश

प्रभावित पेड़ों के तने में छेद कर 2 ग्राम Oxytetracycline Hydrochloride (OTC-HCL) एंटीबायोटिक व 10 mg Citric Acid को 10ml पानी में घोलकर इन छिद्रों में बूंद- बूंद कर डालें। इसके बाद छिद्रों को चिकनी मिट्टी और गोबर की खाद, बराबर भाग में, का लेप बनाकर बंद कर दें। लीफ़ हॉपर के प्रबंधन के लिए Imidacloprid 17.8% SL की 50ml मात्रा को 200 लीटर पानी या Oxy-demeton Methyl 25% EC की 200 ml मात्रा को 200 लीटर पानी में घोलकर स्प्रे करें।