सोलन में PNB पेंशनर्स एसोसिएशन का सम्मेलन:पेंशन बढ़ोतरी और मेडिकल खर्च न मिलने पर जताई नाराजगी, 20 को निकालेंगे कैंडल मार्च

सोलन15 दिन पहले
सोलन में पीएनबी पेंशनर्स एसोसिएशन की बैठक में मौजूद सदस्य।

हिमाचल के सोलन में ऑल इंडिया पंजाब नैशनल बैंक पेंशनर्स एंड रिटायरीस एसोसिएशन की हिमाचल इकाई का राज्य स्तरीय त्रैवाषिक सम्मेलन हुआ। जिसमें प्रदेश के बैंकों से सेवानिवृत्तियों के अलावा अखिल भारतीय स्तर के नेताओं ने सहभागिता की। सम्मेलन में बैंक कर्मियों ने मेडिकल खर्च न मिलने और पेंशन बढ़ोतरी न होने पर पर नाराजगी जताई। साथ ही तय किया गया कि इसी क्रम में 20 को बैंक के अंचल और मंडल कार्यालयों के सामने कैंडल मार्च निकाला जाएगा।

सम्मेलन की अध्यक्षता एसोसिएशन के अखिल भारतीय प्रेसिडेंट एमएल गुप्ता ने की। पंजाब नैशनल बैंक के महाप्रबंधक और अंचल प्रबंधक हिमाचल ज़ोन एन. के. गर्ग इसमें बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए।एसोसिएशन के मुख्य सलाहकार केडी खेड़ा ने कहा कि पिछले 29 वर्षों से बैंक कर्मियों की पेंशन में बढ़ोतरी नहीं हुई है और न ही बैंक मेडिकल खर्च की प्रतिपूर्ति करते हैं। बैंक सेवानिवृत्तियों की वास्तविक समस्याओं के प्रति सरकार के रवैये को उदासीनता वाला है।

2 साल पहले IBO की वार्षिक बैठक में वित्त मंत्री ने बैंक कर्मियों की पेंशन बढ़ोतरी के मुद्दे का संज्ञान लेते हुए आईबीए और भारतीय स्टेट बैंक के चेयरमैन को इस बारे में उचित कदम उठाने की हिदायत दी थी। लेकिन इस संबंध में अभी तक कुछ भी नहीं हुआ है। पेंशन बढ़ोतरी से संबंधित उच्चतम न्यायालय में लंबित मामलों में भी आईबीए का रवैया नकारात्मक और अड़ंगे लगाने वाला है। जिसकी वजह से उनके निपटान में अवांछित विलंब हो रहा है। परिणामस्वरूप पेंशन धारकों में भारी रोष है।

फरवरी 2012 में वित्त मंत्रालय ने बैंकों को निर्देश दिए थे कि सेवानिवृत्तियों के लिए सामूहिक स्वास्थ्य बीमा योजना लाई जाए और बीमा की किस्त का भुगतान बैंक अपनी कल्याण निधि (Welfare Fund) से करें। पंजाब नैशनल बैंक ने यह सुविधा अपने कार्यरत स्टाफ को तो दी, लेकिन सेवानिवृत्तियों को हर वर्ष बीमा की किस्त के रूप में पचास हजार रुपए से अधिक का भुगतान स्वयं करना होता है।

खबरें और भी हैं...