• Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Una
  • Sudarshan Singh Bablu Was Not Nominated, Congress Candidates Returned Due To Non completion Of Formalities, Now 25 Will Fill The Nomination Form

सुदर्शन सिंह बबलू का नहीं हुआ नामांकन:औपचारिकताएं पूरी न होने के चलते वापस लौटे कांग्रेस प्रत्याशी, अब 25 को भरेंगे नॉमिनेशन फार्म

अंब2 महीने पहले
कांग्रेस प्रत्याशी सुदर्शन सिंह बबलू की नामांकन रैली।

हिमाचल के जिला ऊना के चिंतपूर्णी विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस प्रत्याशी सुदर्शन सिंह बबलू औपचारिकताएं पूरी न होने के चलते अपना नामांकन दाखिल नहीं कर पाए। अब हो 25 अक्टूबर को अपना नामांकन दाखिल करेंगे।

बताते चलें कि दिल्ली से आने के बाद धुसाड़ा में बबलू के समर्थकों ने जोर शोर के साथ उनका स्वागत किया।बैंड बाजों की थाप पर नाचते गाते हुए उसके समर्थक उन्हें अंब तक लेकर आए। इस दौरान उसके समर्थक कौन आया शेर आया, बबलू भाई जिंदाबाद के नारे लगाते रहे।

पत्रकारों से बात करते हुए सुदर्शन सिंह बबलू ने कहा कि कांग्रेस हाईकमान ने उनके ऊपर जो विश्वास जताया है वह उसके ऊपर पूरा उतरेंगे । चिंतपूर्णी के विकास को गति प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि उनकी प्राथमिकता चिंतपूर्णी विधानसभा क्षेत्र में शिक्षा का सुदृढ़ीकरण करना ,किसानों को सिंचाई के लिए सिंचाई योजना और पीने के पानी के लिए पेयजल योजनाओं को स्थापित करना है। उन्होंने कहा कि वह विधानसभा क्षेत्र में स्वास्थ्य के क्षेत्र में भी क्रांतिकारी परिवर्तन लाना चाहते हैं‌।

सुदर्शन सिंह बबलू, कांग्रेस प्रत्याशी।
सुदर्शन सिंह बबलू, कांग्रेस प्रत्याशी।

चिंतपूर्णी विधानसभा क्षेत्र में समर्थकों में उत्साह की लहर

काबिले गौर कि सुदर्शन बबलू की टिकट क्रिकेट मैच की तरह कभी यहां कभी वहां हो रही थी, आखिरकार वीरवार को कांग्रेस हाईकमान द्वारा हिमाचल प्रदेश के 17 विधानसभा क्षेत्रों के लिए फाइनल की गई। टिकटों में सुदर्शन बबलू का नाम आने के साथ ही चिंतपूर्णी विधानसभा क्षेत्र में उनके समर्थकों में उत्साह की लहर दौड़ गई ।

सुदर्शन बबलू के परिजनों की मानें तो उनके पैतृक गांव पंजोआ में सारी रात उनके समर्थक पटाखे छोड़ते रहे। उसके पैतृक गांव के ग्रामीणों का कहना है कि उनके लिए लगभग 4 दिन पहले ही दिवाली कम माहौल बन गया है। वहीं सुदर्शन सिंह का कहना है कि उनको यह टिकट माता चिंतपूर्णी, उनके परिजनों और क्षेत्र की जनता के आशीर्वाद की बदौलत मिले हैं। वह पिछले सालों की तरह ही चिंतपूर्णी विधानसभा क्षेत्र के जनता की सेवा करेंगे और उनके दुखों का निवारण करने के लिए उनके बीच नेता नहीं बेटा बनकर खड़े रहेंगे।

खबरें और भी हैं...