आईएमए सदस्य डीसी से करेंगे फर्जी डॉक्टरों की शिकायत:आईएमए ने 10 प्रैक्टिसनर्स को बताया झोलाछाप, कोई कंपाउंडर से डॉक्टर बना तो किसी की डिग्री ही फर्जी

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फर्जी डॉक्टरों की जानकारी देते आईएमए के सदस्य। - Dainik Bhaskar
फर्जी डॉक्टरों की जानकारी देते आईएमए के सदस्य।

इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आईएमए) जमशेदपुर शाखा ने शहर के 10 प्रैक्टिसनर्स डाॅक्टरों का नाम जारी कर उन्हें फर्जी (झोलाछाप) डॉक्टर बताया है। ये डाॅक्टर बिना डिग्री के क्लीनिक में प्रैक्टिस कर रहे हैं। आईएमए इन डाॅक्टरों की सूची सोमवार को जिले की डीसी को देकर इनके खिलाफ कार्रवाई की मांग करेगा। यह जानकारी आईएमए की ओर से रविवार को आईएमए भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में दी गई।

मौके पर आईएमए अध्यक्ष डाॅ. जीसी मांझी, सचिव डॉ. सौरव चौधरी, डाॅ. अखौरी मिंटू सिन्हा, डाॅ. अभिषेक आदि मौजूद थे। वहीं आरोपी डॉक्टरों से उनका पक्ष जानने के लिए संपर्क किया गया तो ज्यादातर ने कहा अभी व्यस्त हूं। आईएमए का आरोप है कि ये कंपाउंडर थे जो अब डॉक्टर बनकर इलाज कर रहे हैं। आईएमए का कहना है कि इन लोगों द्वारा मरीजों को दी जाने वाली जीवन रक्षक स्टेरॉयड का अधिक डोज देकर मरीजों को तत्काल लाभ पहुंचाया जाता है। लेकिन बाद में मरीज की स्थिति खराब हो जाती है।

एक ने दिया जवाब

डॉ. एमआई अंसारी ने कहा- मैं आरोग्यम हॉस्पिटल में था। हॉस्पिटल बंद हो गया तो अभी प्रैक्टिस कर रहा हूं। आईएमए की ओर से सदस्य बनने के लिए दबाव बनाया जा रहा है, नहीं बनने पर यह झूठा आरोप लगा रहे हैं। मैंने कोलकाता से एमबीबीएस की पढ़ाई की है और अब जल्द ही वापस कोलकाता जा रहा हूं।

खबरें और भी हैं...