बड़ा फैसला:सरकारी बजट से बने सिदगाेड़ा सूर्य मंदिर पर जेएनएसी का अधिकार, कमेटी बाहर

जमशेदपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिदगाेड़ा स्थित सूर्य मंदिर परिसर के प्रबंधन का कार्य अब जेएनएसी करेगी। - Dainik Bhaskar
सिदगाेड़ा स्थित सूर्य मंदिर परिसर के प्रबंधन का कार्य अब जेएनएसी करेगी।

सिदगाेड़ा स्थित सूर्य मंदिर परिसर के प्रबंधन का कार्य अब जेएनएसी करेगी। प्रशासन की ओर से गठित जांच कमेटी इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि सूर्य मंदिर का पूरा परिसर सरकारी जमीन पर बना है। सरकारी योजनाओं की राशि का उपयोग से यहां पार्क, प्रवेश द्वार और अन्य सुविधाएं मुहैया कराई गई हैं। इस रिपोर्ट के बाद उपायुक्त विजया जाधव ने मंदिर परिसर के प्रबंधन का कार्य जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति (जेएनएसी) को सौंप दिया है।

इससे पहले प्रारंभिक तौर पर इसकी जिम्मेवारी पूर्व उपायुक्त सूरज कुमार ने जिला परिषद को सौंपी थी। इसके साथ ही सूर्य मंदिर परिसर की देखरेख से लेकर बुकिंग का पूरा काम जेएनएसी ही करेगी। अब तक इसका संचालन पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के करीबी सूर्य मंदिर कमेटी के माध्यम के कर रहे थे। इसको लेकर जमशेदपुर पूर्व के विधायक सरयू राय ने सवाल उठाया था कि सरकारी राशि पर निजी कमाई की जा रही है। इसके बाद जिला प्रशासन ने कार्रवाई की है।

क्या था विवाद

सूर्य मंदिर परिसर में पार्क, सोन मंडप, यात्री निवास, चिल्ड्रन पार्क, रेस्टोरेंट और टाउन हॉल का निर्माण सरकार के फंड से 2004-05 में किया गया था। इसका संचालन सूर्य मंदिर कमेटी द्वारा किया जाता था। पार्क में प्रवेश के लिए शुल्क लेने के साथ सोन मंडप की बुकिंग भी सूर्य मंदिर कमेटी करती थी और इसका हिसाब प्रशासन के पास नहीं था। सूर्य मंदिर कमेटी में पूर्व मुख्यमंत्री रघुवर दास के खेमे के लोग थे।

जांच कमेटी ने माना सरकारी धन खर्च हुआ

सूर्य मंदिर की जांच के लिए 6 मार्च 2021 काे तत्कालीन उपायुक्त सूरज कुमार ने नौ सदस्यीय जांच टीम का गठन किया था। जांच कमेटी की अध्यक्षता एडीएम एडीएम एनके लाल कर रहे थे। जांच कमेटी ने सूर्य मंदिर परिसर मामले की जांच रिपोर्ट उपायुक्त को सौंपी थी। जांच टीम ने सूर्य मंदिर परिसर को सरकारी जमीन बताया और निर्माण में सरकार पर्यटन, नगर विकास, खेल विभाग, विधायक फंड के उपयोग होने की जानकारी दी गई है। इस रिपाेर्ट के आधार पर मंदिर परिसर का प्रबंधन जेएनएसी काे सौंपने का आदेश दिया है।

पार्क के प्रवेश पर शुल्क वसूल रहे थे निजी लोग

सूर्य मंदिर पार्क में प्रवेश करने के लिए प्रति व्यक्ति पांच रुपए मंदिर कमेटी की ओर से वसूला जाता था। इसके अलावे अन्य सुविधाओं के लिए राशि की वसूली सूर्य मंदिर कमेटी के लोग कर रहे थे। 2021 में सूर्य मंदिर परिसर स्थित चिल्ड्रन पार्क में झूला काे दूसरे जगह शिफ्ट करने काे लेकर विधायक सरयू राय के समर्थकों ने हंगामा किया था। इसको लेकर रघुवर और सरयू राय खेमा में विवाद हुआ था।

"सूर्य मंदिर परिसर का हस्तांतरण जेएनएसी काे करने का आदेश दिया गया है। वरीय अधिकारियाें के आदेश का पालन हाेगा। साेन मंडप और टाउन हाॅल का जेएनएसी पहले ही संचालन कर रहा है।"

-साेनल सिंह चाैहान, सिटी मैनेजर, जेएनएसी

"सूर्य मंदिर कमेटी परिसर और चिल्ड्रन पार्क का संचालन और देखरेख कर रही है। अब प्रशासन किस आधार पर और कैसे जेएनएसी काे हस्तांतरण करेगा। इसकी जानकारी अबतक प्रशासन ने नहीं दिया है।"

- संजीव सिंह, अध्यक्ष, सूर्य मंदिर कमेटी, सिदगाेड़ा

खबरें और भी हैं...