चाईबासा में हुआ लेटर कांड:चाईबासा महिला कॉलेज में प्रिंसिपल की अनुपस्थिति में कई शिक्षकों को हटाने के लिए विवि को भेजा गया पत्र

चाईबासा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

कोल्हान विश्वविद्यालय के अंगीभूत महिला कॉलेज चाईबासा में लेटर कांड हो गया, जिसको लेकर कॉलेज में खूब हाई वोल्टेज ड्रामा चल रहा है। महिला कॉलेज की प्रभारी प्रचार्या डॉ. प्रीतिबला सिन्हा की अनुपस्थिति में कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डॉ. निवरण महथा ने कई महत्वपूर्ण लेटर जारी कर दिए हैं। व्यक्तिगत दुश्मनी को लेकर उन्होंने कॉलेज के ही कई शिक्षकों को हटाए जाने की बात लेटर में लिखकर कोल्हान विश्वविद्यालय के कुलसचिव के पास भेज दिया है।

सूत्रों के अनुसार 27 व 28 जुलाई को महिला कॉलेज की प्रभारी प्रिंसिपल डॉ. प्रीतिबला सिन्हा कुछ महत्वपूर्ण कार्य से संबंधित अवकाश पर थीं। इस दौरान कॉलेज के सहायक प्राध्यापक डॉ. निवारण महथा को प्रिंसिपल ने सामान्य कार्य के लिए दो दिन का प्रभार दिया था। डॉ. महथा ने प्रचार्या डॉ. प्रीतिबला को बिना सूचित किए ही कॉलेज के परीक्षा नियंत्रक सह इग्नू की को-ऑडिनेटर डॉ. सूचिता बाडा, सहायक परीक्षा नियंत्रक डोरिश मिंज को हटाने संबंधित पत्र विवि को भेज दिया। जारी किए गए पत्र में फॉर प्रिंसिपल का जिक्र तक नहीं किया गया है।

प्रिंसिपल के स्थान पर डॉ. निवारण महथा ने अपना हस्ताक्षर कर कोल्हान विवि के कुलसचिव को पत्र भेज दिया। डॉ. निवारण महथा ने कहा है कि रिटायर पूर्व प्रभारी डॉ. सलोमी टोपनो, हिंदी तथा मनोविज्ञान विभाग की शिक्षिका सुचिता बाड़ा व डोरीश मिंज द्वारा विभिन्न धार्मिक एवं जातिगत आधार पर कॉलेज की छात्राओं को गुमराह किया जा रहा है।

डॉ. सालोनी टोपनो एक वर्ष पूर्व ही रिटायर हो चुकी हैं, लेकिन वह कॉलेज परिसर में अभी तक जमी हुई हैं। डॉ. टोपनो अपनी दोनों चहेती शिक्षिकाओं को विभिन्न पदों पर आसीन करने हेतु छात्राओं के बीच प्रचार-प्रसार करती हैं एवं छात्राओं को गुमराह करती हैं। उन्होंने पत्र में अनुरोध किया है कि दोनों शिक्षिकाओं का ट्रांसफर कर दिया जाए।

प्रिंसिपल प्रीतिबला ने डॉ. महथा को लगाई फटकार, किया शोकाॅज

प्रभारी प्रिंसिपल डॉ. प्रीतिबला सिन्हा जब कॉलेज पहुंची तो हैरान हो गयी। उन्होंने कई महत्वपूर्ण लेटर देखा, जिसके बाद उन्होंने सहायक प्राध्यापक डॉ. निवारण महथा को जमकर फटकार लगाया। साथ ही उन्हें शोकॉज किया। उधर, कोल्हान विश्वविद्यालय ने भी मामले को गंभीरता से लेते हुए प्रभारी प्रिंसिपल को विवि बुलाया।

इसके बाद लेटर का जिक्र किया गया, जिस पर प्रभारी प्रिंसिपल ने अनुपस्थिति में लेटर कांड होने की बात कही। इधर जवाब में डॉ. निवारण महथा ने कहा कि दैनिक दिनचर्या का कार्य समझकर पत्र निर्गत किए गए हैं। इनमें से कुछ कार्य बहुत दिनों से लंबित थे और कुछ कार्य तत्कालिक रूप से आवश्यक भी थे। मैंने फोन के माध्यम से इस संबंध में आपसे संपर्क भी करना चाहा था, लेकिन आप उपलब्ध नहीं हो पाईं। वहीं महिला कॉलेज चाईबासा की प्रभारी प्रचार्या डॉ. प्रीतिबला सिन्हा की छवि खराब करने में कॉलेज के ही कई शिक्षक जुटे हुए हैं।

खबरें और भी हैं...