मुख्य संयोजक ने कहा:पारंपरिक ड्रेस में महिला-पुरुष ढोल बाजे के साथ जुलूस में शामिल हों

चाईबासा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

डिलियामर्चा में विश्व आदिवासी दिवस को लेकर ग्राम सभा की गई। आदिवासी हो समाज महासभा के महासचिव यदुनाथ तियु ने बताया कि पूरे विश्व में यह दिन आदिवासी एकता के लिए मनाया जाता है। इस बार गांव-गांव पारंपरिक नृत्य व जुलूस की शक्ल में हम लोग आदिवासी एकता का परिचय देंगे। सभी लोग अपने पारंपरिक पोशाक में अधिक से अधिक संख्या में भाग लें। ताकि हमारी एकता को बल मिले। मुख्य संयोजक मुकेश बिरुवा ने बताया कि इस बार चाईबासा में पहली बार सभी आदिवासी समुदाय एकजुट होकर विश्व आदिवासी दिवस मनाएंगे।

इसीलिए अपनी आदिवासीयत दिखाने के वास्ते सभी को सांस्कृतिक जुलूस में शामिल होना है। पूरा शहर आदिवासी नृत्य मंडली एवं आदिवासी कलाओं से पट जाना चाहिए। विभिन्न रास्तों से सभी जुलूस एसोसिएशन ग्राउंड में पहुचेगा। वहां सभी के लिए खाने-पीने की व्यवस्था रहेगी।

मुख्य कार्यक्रम 1 बजे शुरू होकर शाम पांच बजे तक चलेगा। शाम 6 बजे से आदिवासी ऑर्केस्ट्रा का कार्यक्रम होगा। सभी पारंपरिक ड्रेस में महिला-पुरुष और बच्चे ढोल-नगाड़ों के साथ जुलूस में शामिल होंगे। संपर्क अभियान में सुखलाल पुरती, चैतन्य कुंकल, यदुनाथ तियु और मुकेश बिरुवा आदि शामिल थे।

खबरें और भी हैं...