गोइलकेरा के सरकारी स्कूल का मामला:बच्चों को नमाज की छुट्टी नहीं देने के आरोप में टीचर को पीटा; अपनी जान को खतरा बताते हुए लगाई सुरक्षा की गुहार

चाईबासा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सरकारी स्कूल के एक शिक्षक ने आरोप लगाया है कि बच्चों को नमाज पढ़ने की छुट्टी नहीं देने पर अकबर खान ने स्कूल में घुसकर बच्चों के सामने मेरी पिटाई की। - Dainik Bhaskar
सरकारी स्कूल के एक शिक्षक ने आरोप लगाया है कि बच्चों को नमाज पढ़ने की छुट्टी नहीं देने पर अकबर खान ने स्कूल में घुसकर बच्चों के सामने मेरी पिटाई की।

पश्चिमी सिंहभूम जिले के गोइलकेरा प्रखंड के सरकारी स्कूल के एक शिक्षक ने आरोप लगाया है कि बच्चों को नमाज पढ़ने की छुट्टी नहीं देने कि झूठी तोहमत लगाकर स्थानीय झामुमो नेता अकबर खान ने स्कूल में घुसकर बच्चों के सामने पिटाई कर दी। उनका कहना है कि इस मामले में जब वह अपनी शिकायत लेकर गोइलकेरा थाना में एफआईआर करने गए तो उच्चस्तरीय दबाव में थाना ने वह शिकायत नहीं ली। शिकायत के 24 घंटे बाद प्राथमिकी दर्ज की गई। बताया जा रहा है कि पुलिस ने दर्ज प्राथमिकी के लिए दोबारा लिखवाई शिकायत में नमाज सहित अन्य बातों को हटवा दिया। प्राथमिकी में शिक्षक रमेंद्र दुबे ने झामुमो नेता अकबर खान से अपनी जान को खतरा बताते हुए सुरक्षा की गुहार लगाई है।

टीचर बोला- किस गलती की सजा दी जा रही

शिक्षक रमेंद्र दुबे ने पूछा कि उसे किस गलती के लिए मारा जा रहा है। तो अकबर खान ने कहा कि बच्चों को 11.30 बजे नमाज पढ़ऩे के लिए छुट्टी क्यों नहीं देते हो। इस पर शिक्षक ने कहा कि उन्होंने कभी भी किसी को नमाज पढ़ने से नहीं रोका है । अकबर खान ने कहा कि सभी बच्चे कह रहे हैं। शिक्षक के अनुसार, अकबर खान ने उन्हें जान से मारने की धमकी दी। शिक्षक ने पुलिस से गुहार लगाते हुए कहा कि अकबर खान से उनकी और उनके पूरे परिवार की रक्षा की जाए।

अकबर ने कहा- मारपीट नहीं हुई, नमाज की बात नहीं

घटना के संबंध में झामुमो नेता अकबर खान ने कहा कि मारपीट की कोई घटना नहीं घटी। अगर 11.50 में छुट्टी होती है, तो कोई बच्चा पूजा करने या नमाज पढ़ने या घर जाना चाहता है, तो उसे जाने दिया जाये। उन्होंने कहा कि राजनीतिक षड्यंत्र रच कर मुझे फंसाया जा रहा है।

24 घंटे बाद ही दोबारा लिखवाई शिकायत

शनिवार को मारपीट के घटना के बाद देर शाम शिक्षक रमेंद्र दुबे ने गोइलकेरा थाना में लिखित शिकायत दर्ज कराई थी शुक्रवार को जो आवेदन हमने दिया था, उसपर कार्रवाई नहीं की गई। पुलिस ने शनिवार को पुनः आवेदन लिखवाया, जिसमें नमाज सहित अन्य बातों को हटवा दिया।