• Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Chaibasa
  • Despite Being 900 Crores Under DMFT Head, Development Work Is Not Being Done In The District, Even After The Recommendation Of The Honorable, The Plan Is Not

प्रशासन की लापरवाही:डीएमएफटी मद में 900 करोड़ रहने के बाद भी जिले में विकास कार्य नहीं हो रहा, माननीयों की अनुशंसा के बाद भी योजना की नहीं

चाईबासा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

विभाग और प्रशासन की लापरवाही के कारण डेढ दशक से कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका विद्यालय और आयुर्वेदिक कॉलेज के अधूरा भवन का कार्य पूरा नहीं किया जा सका है, जबकि सांसद और विधायक दोनों योजना को पूरी कराने के लिए मंत्री से मिलकर मांग कर चुके हैं। साथ ही जिला प्रशासन से उक्त दोनों योजना को डीएमएफटी से कराने की अनुशंसा भी की है, लेकिन उदासिंता और लापरवाही बरते जाने से योजना को पूरा कराने की आशा धूमिल होती दिख रही है।

इसी तरह जिला में बहुत सारी स्वास्थ्य योजना अधूरा है,जिसे डीएमएफटी से पुरा कराने के लिए सांसद श्रीमति गीता कोड़ा ने उपायुक्त को अनुशंसा की हैं, लेकिन उसे भी ठंडे बस्ते में डाल दिया गया है,आखिर किया कारण है कि इतनी महत्व पूर्ण योजना को जिला और विभाग पूरा नहीं करना चाहती है।जबकि आज कांग्रेस पार्टी राज्य सरकार में शामिल है ,फिर भी सांसद, विधायक का प्रयास सफल होता नही दिख रहा है।

सूत्रों की माने तो इस सम्बन्ध में सीएम से मिलकर अधूरे योजना को पूरा कराने की मांग रखे हैं, साथ ही जगन्नाथपुर विधानसभा के डीएमएफटी से दो स्वीकृत पुलिया का निर्माण को नहीं किए जाने की भी शिकायत दर्ज कराई है। विभाग और जिला प्रशासन के लापरवाही और उदासीन रवैया के कारण शिक्षा, सावस्थ के अधूरे भवन को सांसद, विधायक के प्रयास किए जाने के बाद भी नहीं किया जा सका है।जबकी जबकि जिला में डीएमएफटी में 900 करोड़ से भी अधिक राशि उपलब्ध है,फिर भी योजना की स्वीकृति नहीं दिया जाना समझ से परे है।विदित हो कि पिछले दिनों मुख्य मंत्री हेमंत सोरेन ने प्रत्येक गांव में पांच योजना सुरू करने की घोषणा कर चुके हैं लेकिन जिला प्रशासन योजना के माध्यम से ग्रामीण क्षेत्रों में रोजगार सृजन नही करना चाहती है।

पीएमकेकेवाई/डीएमए फटी जनता के विकास और कल्याण के लिए बनाया गया है। लेकिन ऐसा लगता है कि डीएमएफटी शेल को देख रहे पदाधिकारी जिला के आदिवासियों के बाहुल्य छेत्र का विकास नहीं चाहती है। इसी तरह राज्य सरकार से स्वीकृत श्यामा प्रसाद मुखर्जी रर्बन मिशन के चार योजना को सुरू नही कराया गया है।इस योजना को किस कारण से लंबित रखा गया है,यह जांच का विषय है,जबकि इस योजना को सुरू कराने के लिए उपायुक्त अनन्या मित्तल को एक वर्ष पूर्व विधायक के द्वारा कहा गया था।

खबरें और भी हैं...