नशीले दवाओं के दुरूपयोग के खिलाफ जागरूकता:नशा छोड़ने के लिए जागरूकता जरूरी

चतरा3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

समाहरणालय सभा कक्ष में शनिवार को उपायुक्त अबु इमरान की अध्यक्षता में राष्ट्र नारकोटिक्स समन्वय पोर्टल कि जिला स्तरीय समिति की बैठक हुई। बैठक में मुख्य रूप से नशीले पदार्थाें की तस्करी, जिले में अफीम या भांग की अवैध खेती, नशीले दवाओं के दुरूपयोग के खिलाफ जागरूकता को बढ़ावा देने, विशेष रूप से स्कूल एवं कॉलेजों में एनडीपीएस अधिनियम के अवैध प्रावधानों और नशीली दवाओं के हानिकारक प्रभावों से प्रभावित क्षेत्रों में जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन, प्रभावित क्षेत्रों में वैकल्पिक विकास कार्यक्रमों को लागू करना, दवा का पता लगाने और प्रस्तुत करने के लिए उपकरणों की आवश्कताओं का आकलन, जिले में नशामुक्ति एवं पुनर्वास केन्द्रों का पर्यवेक्षण समेत अन्य बिन्दुओं पर विचार विमर्श किया गया।

उपायुक्त ने जिला शिक्षा पदाधिकारी को सभी संबंधित पदाधिकारी के साथ समन्वय स्थापित करते हुए जिले के सभी विद्यालयों में छात्र-छात्राओं को नशा के दुष्प्रभाव के प्रति प्रचार-प्रसार कर जागरूक करने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने कहा कि अगर नशा मुक्त चतरा का निर्माण करना है तो सभी को नशा के प्रति जागरूक होना आवश्यक है,तभी नशा मुक्त चतरा का निर्माण संभव है।ग्रामीण क्षेत्रों में अफीम की खेती को लेकर पुलिस अधीक्षक राकेश रंजन ने बैठक में उपस्थित सभी अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी एवं सभी थाना प्रभारी को अपने अपने क्षेत्रों में विशेष जागरूकता अभियान चलाकर लोगों को पोस्ता -अफीम से होनेवाले दुष्प्रभाव के बारे में जागरूक करें और पोस्ता-अफीम कि खेती में संकल्पित लोगों पर कड़ी से कड़ी कानूनी कार्रवाई करें। बैठक में वन प्रमण्डल पदाधिकारी चतरा उत्तरी आर थांगा पाण्डियन, वन प्रमण्डल पदाधिकारी चतरा दक्षिणी एसपी सुमन, अपर समाहर्ता पवन कुमार मण्डल, अनुमंडल पदाधिकारी चतरा मुमताज अंसारी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी चतरा अविनाश कुमार, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सिमरिया अशोक प्रियदर्शी, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी टण्डवा शंभु सिंह, जिला परिवहन पदाधिकारी संतोष सिंह समेत संबंधित पदाधिकारी एवं सभी अंचल अधिकारी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...