62.6% बच्चे 56.6% महिलाएं जूझ रही हैं खून की कमी:चतरा जिले में महिलाओं और बच्चों में एनीमिया की शिकायत एक बड़ी समस्या

चतरा2 महीने पहलेलेखक: नौशाद आलम
  • कॉपी लिंक

जिले में बच्चों और महिलाओं में एनीमिया एक बड़ी समस्या बनी हुई है। लगातार प्रयास के बाद भी इसमें कमी नहीं आ रही है। हालांकि पुरुषों और महिलाओं में ब्लड शुगर लेवल बहुत हद तक नियंत्रण में है। जिले में 15 वर्ष और उससे अधिक उम्र के करीब 50 फीसदी पुरुष किसी न किसी रूप में तंबाकू का सेवन करते हैं। हालांकि जिले में शराब पीने वाले पुरूषों की संख्या बहुत अधिक नहीं है।

एनएफएचएस के आंकड़ों के अनुसार जिले में पिछले पांच सालों में एनीमिक बच्चों की संख्या और बढ़ गई है। छह से 59 महीने के 62.6 फीसदी बच्चे एनीमिक पाए गए हैं। पांच साल पहले एनीमिक बच्चों की संख्या 60.6 दर्ज की गई थी। जिले में 15 से 49 वर्ष की 55.9 प्रतिशत गैर गर्भवती महिलाएं एनीमिक हैं। पांच साल पूर्व भी ऐसी महिलाओं की संख्या इतनी ही दर्ज की गई थी।

इस आंकड़े में काई कमी नहीं आई है। जिले में 15 से 49 वर्ष आयु की 56.5 महिलाएं एनीमिक पाई गई हैं। पांच साल पूर्व जिले में 66.9 प्रतिशत महिलाएं एनीमिक पाई गईं थी। जिले में 15 से 49 वर्ष आयु की सभी महिलाओं में से 56.6 प्रतिशत महिलाएं एनीमिया से पीड़ित हैं। जाहिर है जिले में महिलाओं की आधी से अधिक आबादी एनीमिक हैं।

इसी तरह अगर 15 से 19 वर्ष आयु वर्ग की महिलाओं को देखा जाए तो इनमें 55.7 प्रतिशत एनीमिया से पीड़ित हैं। पांच साल पहले इस आयु वर्ग की 52.6 प्रतिशत महिलाएं एनीमिक थीं। यानी इस आयु वर्ग में एनीमिया की शिकायत घटने के बजाय और बढ़ गई। यह बेहद चिंतनीय है।

जिले में 5 वर्ष से कम आयु के 17.2 प्रतिशत बच्चे कमजोर

जिले में तीन वर्ष से कम आयु के सिर्फ 24.8 प्रतिशत बच्चों को ही जन्म के एक घंटे के भीतर स्तनपान कराया जाता है। इस मामले में पांच साल पर्व के आंकड़े ज्यादा बेहतर हैं। पांच साल पूर्व इस आयु वर्ग के 27.2 प्रतिशत बच्चे स्तनपान करते थे। जिले में 5 वर्ष से कम आयु के 17.2 प्रतिशत बच्चे कमजोर हैं। पूर्व में इनकी संख्या 30.6 प्रतिशत रिकार्ड किया गया था।

5.9 % महिलाएं 38.7 % पुरुष पीते हैं शराब

जिले में ब्लड शुगर लेवल की बात करें तो यह नियंत्रण में लगता है। 15 और उससे अधिक उम्र की सिर्फ 4.8 प्रतिशत महिलाओं में ब्लड शुगर लेवल हाई पाया गया है। जबकि मात्र 5.1 प्रतिशत महिलाएं ही बहुत अधिक ब्लड शुगर लेवल की शिकार हैं। 10.8 प्रतिशत महिलाएं ऐसी हैं, जिन्हें उच्च या बहुत अधिक रक्त शर्करा के लिए दवा लेनी पड़ती है। इसी तरह जिले में मात्र 7.3 प्रतिशत पुरूष ही हाई ब्लड शुगर की चपेट में हैं। जिले में 5.4 प्रतिशत पुरूष बहुत अधिक ब्लड शुगर लेवल से पीड़ित हैं।

इस बीमारी से छुटकारा के लिए जिले के 13.1 प्रतिशत पुरूषों को दवा लेनी पड़ती है। जिले में हल्का या उच्च रक्तचाप से 8.7 प्रतिशत महिलाएं और 13.3 प्रतिशत पुरूष पीड़ित हैं। जिले में 15 और उससे अधिक वर्ष की 6.4 प्रतिशत महिलाएं 49.7 प्रतिशत पुरूष किसी न किसी रूप से तंबाके का सेवन करते हैं। इसी तरह 15 वर्ष और उससे अधिक आयु की 5.9 प्रतिशत महिलाएं और 38.7 प्रतिशत पुरूष शराब का सेवन करते हैं।

खबरें और भी हैं...