पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

खुदकुशी:रुपए की कमी के कारण टीबी का इलाज नहीं हुआ तो बेटी ने फांसी लगा कर ली आत्महत्या

बेंगाबाद10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • एक दिन पहले आरती ने सीने में दर्द था, पिता से कहा था- मेरा इलाज करा दो मुझे बहुत दर्द है

बेंगाबाद थाना क्षेत्र के फिटकोरिया पंचायत के पतरोडीह निवासी महेंद्र दास की पुत्री आरती कुमारी (17) सुनसान घर में फांसी पर झूलकर इहलीला समाप्त कर ली। इसकी भनक परिजनों को तब हुई जब मां तारा देवी बैंक से लौटी तो देखा कि अंदर से कमरा बंद है। उन्होंने आवाज दी लेकिन दरवाजा नहीं खोला। खिड़की से झांक कर देखा तो वह अवाक रह गई। हो-हल्ला की तो ग्रामीण जमा हुए और दरवाजा तोड़ कर फांसी के फंदे से झूलता शव को नीचे उतारा गया। घटना की जानकारी बेंगाबाद पुलिस को मिलते ही एएसआई केसी सिंह सदल बल के साथ पहुंच कर पंचनामा कर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल गिरिडीह भेज दिया। बताया जाता है कि प्रवासी मजदूर महेंद्र दास सूरत में पूरे परिवार के साथ रह रहा था। 5 वर्ष के बाद बीते 22 मार्च को लॉकडाउन लग जाने के कारण पूरे परिवार के साथ गांव पतरोडीह लौटा था।

पिता ने बताया कि दो बेटी और दो बेटा में से आरती कुमारी सबसे बड़ी बेटी थी। लेकिन वह टीबी बीमारी से ग्रसित थी। सूरत में इलाज कराया था। गांव पहुंचने के बाद उसका समुचित इलाज नहीं करा पा रहा था। दो दिन पूर्व उनकी बेटी के सीने में दर्द उठा था। वह कह रही थी कि सीने में दर्द है, उसका इलाज करा दो। लेकिन आर्थिक तंगी की वजह से इलाज नहीं करा पाया। रुपए की जुगाड़ के लिए खेतों में मजदूरी का काम कर रहा था। सोमवार को पत्नी तारा देवी महेशमुंडा बैंक गई थी और वह खेत में काम कर रहा था। बच्चे बाहर में खेल रहे थे इसी समय घर में सुनसान देख बेटी ने घटना को अंजाम दिया। किसी ने उसे जानकारी दी कि घर में बहुत लोग जमा हैं। खेत से दौड़ा हुआ घर आया तो देखा कि बेटी ने खुदकुशी कर ली है। मृतक की मां का रो-रो कर बुरा हाल है। हालांकि इसकी सूचना पाते ही स्थानीय जनप्रतिनिधि भी पहुंच कर पीड़ित परिजनों को ढांढ़स बंधा रहे थे। 

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- समय कड़ी मेहनत और परीक्षा का है। परंतु फिर भी बदलते परिवेश की वजह से आपने जो कुछ नीतियां बनाई है उनमें सफलता अवश्य मिलेगी। कुछ समय आत्म केंद्रित होकर चिंतन में लगाएं, आपको अपने कई सवालों के उत...

    और पढ़ें