लॉकडाउन का असर:दुमका में भूख से परेशान महिलाओं ने ट्रकाें से चावल लूटने की काेशिश की

दुमका2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अनाज लूटने का प्रयास करने वाली महिलाअाें काे समझाते अधिकारी। - Dainik Bhaskar
अनाज लूटने का प्रयास करने वाली महिलाअाें काे समझाते अधिकारी।
  • कहा- लॉकडाउन की वजह से रोजगार छिना, हमारा परिवार भूखा है, सरकार चावल दे

दुमका जिले के शिकारीपाड़ा थाना क्षेत्र  के सरसडंगाल गांव की दर्जनाें महिलाएं मंगलवार को दुमका -रामपुरहाट मुख्य सड़क किनारे जमा हो गईं और वहां से गुजर रहे  अनाज से भरे ट्रकाें को लूटने का प्रयास किया। महिलाओं ने आरोप लगाया कि लॉकडाउन के कारण  उनकी रोजी-रोजगार  छिन गयी है। वे और उनके परिवार के सदस्याें के अलावा उनके छाेटे-छाेटे बच्चे भूख से तड़प रहे हैं।  सड़क किनारे खड़ी महिलाएं  एफसीआई गोदाम से डीलर के यहां ले जाया जा रहा अनाज से भरा ट्रक को जबरन रोक लिया। महिलाओं ने अनाज की कुछ बाेरियां जबरन ट्रकाें से उतार भी लिया।  

अनाज हंशापत्थर गांव के जन वितरण प्रणाली के डीलर के यहां ले जाया जा रहा था। हालांकि इस बीच शिकारीपाड़ा थाना प्रभारी वकार हुसैन और अंचलाधिकारी अमृता कुमारी काे मामले की जानकारी मिली, ताे वे तत्काल सदल बल घटनास्थल पर पहुचे। उन्हाेंने आक्रोशित महिलाओं को समझा-बुझाकर   शांत कराया और महिलाओं द्वारा ट्रक से उतारे गए अनाज को पुनः वापस ट्रक पर लोड करवा कर रवाना किया गया।

आक्रोशित महिलाओं ने अंचलाधिकारी और थाना प्रभारी काे अपनी व्यथा सुनायी। धना मरांडी व किरण टूडू  ने अंचलाधिकारी को अपना दुखड़ा सुनाते हुए कहा कि सरकार की ओर से आपदा राहत कोष में जो फंड दिया गया है, उससे भी आज तक उनलोगों को चावल  नहीं नसीब हुआ है।

खबरें और भी हैं...