पुलिस कार्रवाई:माइका खदान में दबकर मरने वाले दो युवकों के परिजनों को 2 लाख देकर चुप कराने वाला आरोपी कारू गिरफ्तार

गिरिडीह/तिसरी9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
गिरफ्तार कारु मोदी को जेल ले जाती पुलिस। - Dainik Bhaskar
गिरफ्तार कारु मोदी को जेल ले जाती पुलिस।
  • तिसरी के रखवा अवैध माइका खदान में 2 मार्च को हुआ था हादसा
  • संजीत राय व रंजीत राणा की दबकर हुई थी मौत, अन्य 4 आरोपियों की तलाश जारी
  • परिजनों से तस्करों ने सादे पेपर पर हस्ताक्षर भी करा लिया कि इस मामले में वे लोग प्रशासन व कोर्ट के समक्ष किसी तरह का बयान नहीं देंगे

जिले के तिसरी थाना अंतर्गत रखवा अवैध माइका खदान हादसे में दो मजदूरों के मौत मामले में मुख्य तस्कर कारू मोदी को तिसरी पुलिस ने गिरफ्तार कर रविवार को जेल भेज दिया है। जबकि अन्य अभियुक्त कामेश्वर भारती, पिंटू वर्णवाल, शैलेंद्र प्रसाद व मुन्ना मोदी फरार हैं।

पुलिस उन अभियुक्तों की गिरफ्तारी को लेकर ताबड़तोड़ छापेमारी कर रही है। तिसरी के लोकाय नयनपुर थाना पुलिस काफी गुपचुप तरीके से आरोपी को उसके केवटाटांड़ स्थित आवास से गिरफ्तार करने में सफल रही। वैसे गिरिडीह जिले के लिए यह पहला मामला है, जिसमें अवैध माइका खदान संचालक की गिरफ्तारी हुई है। क्योंकि गिरिडीह जिले में माइका, कोयला व पत्थर के कई अवैध खदानें संचालित हैं, जिसमें लगातार हादसे में लोगों की मौतें होती रही है। लेकिन हादसे के साथ ही संचालक पैसे के दम पर मामले को मैनेज करने में सफल हो जाते हैं।

वहीं दूसरी तरफ अवैध खदान होने की वजह से मृतक के परिजन भी चुप्पी साध लेते हैं। लेकिन इस बार परिजनों ने भी हिम्मत की और प्रशासन की ओर से पूरे मामले पर पैनी निगाह रखी गई थी। लेकिन सबसे आश्चर्य की बात यह रही कि एक तरफ प्रशासनिक कार्रवाई चलती रही और दूसरी तरफ संचालक कारू मोदी वगैरह मामले को मैनेज करने में जुटे रहे। यहां तक दो युवकों की जान कीमत 2 लाख रुपए न सिर्फ लगाया। बल्कि परिजनों को एक-एक लाख रुपए का भुगतान भी कर दिया। जिसमें 50 हजार नकदी व 50 हजार रुपए का चेक दिया गया।

इस रकम को देने के साथ ही मृतक के परिजनांे से तस्करों ने ने सादे पेपर पर हस्ताक्षर भी करा लिया कि इस मामले में वे लोग प्रशासन व कोर्ट के समक्ष किसी तरह का खिलाफ में बयान नहीं देंगे। गौरतलब है कि 2 मार्च को तिसरी प्रखंड अंतर्गत मनसाडीह पंचायत के सक्सेकिया जंगल के पास स्थित रखवा माइका खदान में हादसा हुआ था, जिसमें चाल धंसने से दो युवक संजीत राय व रंजीत राणा की मौत हुई थी। इस मामले में लोकाई नयनपुर थाना में पुलिस ने कांड संख्या 405/2021 धारा 33,43,42 एवं झारखण्ड वन अधिनियम के तहत 5 तस्करों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी।

हादसे के वक्त थे 80 मजदूर

2 मार्च को तिसरी अन्तर्गत लोकाई नयनपुर थाना क्षेत्र के मनसाडीह सक्सकिया जंगल में अवैध रूप से संचालित रखवा माइका में दोपहर 1 बजे 80 मजदूर डोली के माध्यम से लगभग 700 फीट उतर कर माइका उत्खनन कर रहा था। चाल धंसी और दो मजदूर तिसरो निवासी संजीत राय और रणजीत राणा दब गए। इसके बाद इलाके में सनसनी फैल गई और शव निकालने की कोशिश में प्रशासन जुट गया।

जल्द गिरफ्तार होंगे आरोपी

थाना प्रभारी ने बताया कि पुलिस कई दिनों से कारु मोदी और उनके चार अन्य सहयोगियों की गिरफ्तारी में जुटी हुई थी। कारू हर घंटे ठिकाना बदल रहा था। शनिवार मध्य रात्रि में गुप्त सूचना मिला कि वह अपने तिसरी घर पर है, लिहाजा त्वरित कार्रवाई के तहत उसे गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। अन्य चार आरोपी मुन्ना मोदी, पिंटू, शैलेन्द्र प्रसाद और कामेश्वर की गिरफ्तारी में पुलिस जुटी है।

माइंस की जानकारी सबको है

इधर गिरफ्तार आरोपी कारू मोदी ने घटना के दिन कहा था कि प्रशासन लाख कोशिश कर ले, लेकिन खदान में लाश नहीं मिलने वाला नहीं है। जब पूछा गया कि शव निकलवा लिए हैं क्या, तो हंसते हुए उनका जवाब था कि घटना के रात में ही शव निकालकर अंतिम संस्कार भी किया जा चुका है। वन विभाग, खनन विभाग से लेकर स्थानीय पुलिस व प्रशासन सभी को माइंस संचालन की जानकारी है।

पहली बार अवैध खदान संचालक की गिरफ्तारी

इधर तस्करी कारू मोदी की गिरफ्तारी से तिसरी इलाके के लोग आश्चर्य व्यक्त कर रहे हैं। बताते हैं कि तिसरी में माईका व पत्थर खदानों में अभी तक दर्जनों लोगों की चाल में दबकर मौत हो चुकी है। यह पहला मामला है जिसमें किसी संचालक की गिरफ्तारी हुई है। यह डीसी व एसपी अमित रेणु के दौरे का असर है।

खबरें और भी हैं...