पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

घर वापसी:सूरत से आए प्रवासी मजदूर ट्रेन से पहुंचे हटिया प्रशासन बस से सभी को लेकर पहुंचा गिरिडीह

गिरिडीहएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बस से लौटे श्रमिक। - Dainik Bhaskar
बस से लौटे श्रमिक।
  • काेराेना टेस्ट के बाद सूरत से आए मजदूरों को भेजा गया क्वारेंटाइन सेंटर

सूरत से हटिया रेलवे स्टेशन(रांची) आने वाली ट्रेन में गिरिडीह जिले के 539 प्रवासी श्रमिकों, यात्रियों को गृह जिला वापस लाया गया। बसों में यात्रियों की सुविधा एवं सुरक्षा के दृष्टिगत पर्याप्त मात्रा में फेस मास्क, हैंड सैनिटाइजर व अन्य जरूरत की सामग्रियां उपलब्ध कराई गई।

सभी यात्रियों को बगोदर के +2 उच्च विद्यालय परिसर में सुरक्षित स्थान पर उतारा गया। जहां सभी का नाम, पता, आधार संख्या, फोन नंबर आदि समुचित ब्यौरा इकट्ठा कर सभी यात्रियों का कोरोना जांच(रैपिड एंटीजन टेस्ट) किया गया और उन्हें बसों के जरिए उनके प्रखंड तक पहुंचाया गया। सभी 539 अप्रवासी श्रमिक, व्यक्ति रैपिड एंटीजन टेस्ट में नेगेटिव पाए गए है।

सभी श्रमिकों को उनके गांव के नजदीकी पंचायत भवन, विद्यालय, आंगनबाड़ी केंद्र में 7 दिनों के लिए क्वारंटाइन में रखने का निदेश दिया गया है। जहां उनका समुचित चिकित्सीय उपचार किया जा रहा है। 07 दिनों के बाद उन्हें घर जाने की अनुमति होगी उन्हें क्वारेंटाइन सेंटर में ही रहना होगा।

कहां के कितने श्रमिक लौटे

जमुआ प्रखंड के 196 श्रमिक, बिरनी प्रखंड के 43 श्रमिक, धनवार प्रखंड के 49 श्रमिक, देवरी प्रखंड के 87 श्रमिक, डुमरी प्रखंड के 04 श्रमिक, बगोदर प्रखंड के 3 श्रमिक, सरिया प्रखंड के 2 श्रमिक, गिरिडीह प्रखंड के 40 श्रमिक, बेंगाबाद प्रखंड के 79 श्रमिक,गांडेय प्रखंड के 05 श्रमिक, तीसरी प्रखंड के 10 श्रमिक, गावां प्रखंड के 9 श्रमिक एवं अन्य 12 जामताड़ा, बिहार के श्रमिक थे। सभी श्रमिकों, यात्रियों का रैपिड एंटीजन टेस्ट करने के बाद नजदीकी आइसोलेशन सेंटर, भवनों/विद्यालयों में क्वारंटाइन किया गया है।

खबरें और भी हैं...