पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सफलता:लक्खीसराय से भटकी किशोरी परिजनों से मिली

गिरिडीह24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पार्वती काफी पूछताछ के बाद भी सही से अपना पता नहीं बता पा रही थी

बिहार के लखीसराय के चौकरमुसहरी गांव से गुम हुई किशोरी डेढ़ माह बाद स्वजनों को वापस मिल गई है। चाइल्ड लाइन की टीम ने माता-पिता को सीडब्ल्यूसी, गिरिडीह बुलाकर गत गुरुवार को उन्हें उनकी बेटी को सुपुर्द कर दिया। बेटी पार्वती कुमारी को पाकर मां सीमा देवी व पिता कारे लाल खुश हैं। बेटी खो जाने के बाद से दोनों परेशान थे। बताया जाता है कि गत दस अप्रैल को पार्वती भटकती हुई देवरी में पुलिस को मिली थी। पुलिस ने उसे चाइल्ड लाइन टीम को सौंप दिया था।

चाइल्ड लाइन टीम ने उसे सीडब्ल्यूसी में रखवाया था। पार्वती काफी पूछताछ के बाद भी सही से अपना पता नहीं बता पा रही थी। चाइल्ड लाइन टीम के अनुसार वह मानसिक रूप से कमजोर थी। चाइल्ड लाइन तिसरी के गुंजा देवी, जयराम व अमर पाठक के काफी प्रयास के बाद पता चला कि किशोरी लखी सराय के चौकर मुसहरी गांव के कारे लाल की बेटी है। इसके बाद किशोरी के माता-पिता को बुलाकर जब सामने लाया गया तो बेटी उन्हें पहचान गई। वह माता-पिता को देख फफक कर रो पड़ी। फिर माता-पिता व किशोरी के पहचान पत्र की पुष्टि करने के बाद उन्हें सौंप दिया गया। किशोरी की मां सीमा देवी ने बताया कि उसे तीन बेटी व दो पुत्र हैं। पति कारे लाल बीमार रहते हैं, जिस कारण घर की माली हालत काफी खराब है।

पार्वती नानी घर जाने के लिए घर से निकली थी। जब नानी घर नहीं पहुंची तो उसकी खोजबीन करने लगे, लेकिन पता नहीं चल सका। बता दें कि तिसरी चाइल्ड लाइन की टीम ने पहले भी भटके हुए कई बच्चों को माता-पिता से मिलाने का काम किया है।बिहार के लखीसराय के चौकरमुसहरी गांव से गुम हुई किशोरी डेढ़ माह बाद स्वजनों को वापस मिल गई है। चाइल्ड लाइन की टीम ने माता-पिता को सीडब्ल्यूसी, गिरिडीह बुलाकर गत गुरुवार को उन्हें उनकी बेटी को सुपुर्द कर दिया। बेटी पार्वती कुमारी को पाकर मां सीमा देवी व पिता कारे लाल खुश हैं।

खबरें और भी हैं...