शारदीय नवरात्र:कलश स्थापना के साथ शारदीय नवरात्र के पहले दिन माता शैलपुत्री की हुई पूजा

जामताड़ा20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

शारदीय नवरात्र के पहले दिन गुरुवार को मंदिरों से लेकर घरों में कलश स्थापना की गई। जिले के सभी 6 प्रखंडों में दुर्गा पूजा का उत्साह देखने लगा है। भक्ति में माहौल में लोगों ने घरों व मंदिरों में कलश स्थापना कर पूजा अर्चना किए। नव दुर्गा के अवसर पर कई लोगों ने फलाहारी उपवास रखा है। भक्तों ने मां दुर्गा के प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री की विधिविधान के साथ पूजा-अर्चना की।

वहीं कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे से देशवासियों को सुरक्षित रखने के लिए मंदिरों में विशेष पूजन और हवन भी किया गया। पुराना चेकपोस्ट स्थित दुर्गा मंदिर में प्रात:काल पांच बजे मां दुर्गा का दूध, दही, घी से स्नान किया गया। इसके बाद मां को नए वस्त्र धारण कराकर उनका सोलह श्रृंगार किया गया। इसके बाद मंदिर में घट स्थापना की गई। पंडित श्याम लला ने मां शैलपुत्री की विशेष पूजा-अर्चना की।

उन्होंने बताया कि मां दुर्गा का प्रथम स्वरूप मां शैलपुत्री हैं। मां का यह रूप दसों दिशाओं में अपने भक्तों की रक्षा करता है। साथ ही श्रद्धालुओं के सभी मनोरथ मां पूरा करती हैं। उन्होंने कोरोना के गाइडलाइन का पालन कर ही पूजा-अर्चना करने को कहा।

खबरें और भी हैं...