सवाल उठाए:विकसित भारत की परिकल्पना के लिए चिंतन और मनन की जरूरत- एसके झा

केंदुआ2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • अधिकारी व ठेकाकर्मियों ने भी समस्यामूलक कई सवाल उठाए

कांट्रेक्ट श्रमिकों के नीति निर्धारण, वैधानिक सुविधा व कटौती विषय पर बीसीसीएल की ओर से कुसुंडा एरिया के मटकुरिया ऑफिसर्स क्लब में सतर्कता जागरूकता कार्यशाला आयोजित की गई। कार्यशाला में पुटकी बलिहारी, वेस्टर्न झरिया मुनीडीह व कुसुंडा के अधिकारी व आउटसोर्सिंग कंपनी के कर्मी शामिल हुए। अधिकारी व ठेकाकर्मियों ने भी समस्यामूलक कई सवाल उठाए।

मुख्य अतिथि मुख्यालय के चीफ मैनेजर माइनिंग एसके झा ने कहा कि भ्रष्टाचारमुक्त भारत, विकसित भारत की परिकल्पना के लिए नीतिगत सिद्धांत, स्वाध्याय चिंतन-मनन की आवश्यकता है। भारत विकासशील देश है। संभव है वर्ष 2050 तक विकसित देशों को पीछे छोड़ अग्रणी भूमिका निभाएगा। इ कुसुंडा एरिया के महाप्रबंधक वीके गोयल ने कहा कि सतर्कता कानून की जानकारी के अभाव में कई गलतियां हो जाती हैं। अधिकारियों को चाहिए कि सतर्कता विभाग से मिले सुझाव व आदेश का पालन करें। मौके पर कोयलाभवन के चीफ माइनिंग मैनेजर बीएन पंडित, असिस्टेंट मैनेजर पर्सनल नीरज मिश्र, मैनेजर माइनिंग अविरु पात्रा, सतर्कता विभाग की मैनेजर फाइनेंस मनीषा बासु राय, चंद्रप्रकाश, जीके मेहता, राहुल कुमार मंडल, शुभोजित मंडल, अतुल शर्मा, उमंग ठक्कर, प्रणव दास, पीबी एरिया के डीके सिंह, अविराज, वेस्टर्न झरिया एरिया के दिनेश कुमार, निरंकार आदि थे।

खबरें और भी हैं...