पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

आरोप:कर्मियों का शोषण करने वाली कंपनियों को झारखंड से बाहर करे सरकार- ऊर्जा मित्र

खोरीमहुआ19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • मानदेय कटौती सहित 15 हजार रुपए की फर्जी मांग के विरोध में ऊर्जा मित्रों ने की बैठक

सरकार प्रदेश की जनता को बेहतर सेवा देने तथा स्थानीय बेरोजगारों को रोजगार मुहैया कराने के उद्देश्य से सरकारी एजेंसियों को निजी हाथों में सौंपने का काम कर रही है पर यहां उल्टा देखने को मिल रहा है। कंपनी द्वारा कर्मचारियों का शोषण किया जा रहा है जिसका विरोध में कर्मी एकजुट होने लगे हैं। ऐसा ही मामला शनिवार को राजधनवार में देखने को मिला जहां ईएमडीईईडीजी ट्रॉनिक्स प्राइवेट कंपनी द्वारा ऊर्जा मित्रों से 15 हजार रुपए की राशि जमा करने तथा मानदेय के भुगतान में कटौती करने के फरमान के बाद धनवार तथा जमुआ के ऊर्जा मित्रों ने एक बैठक आयोजित कर कंपनी के फरमान का विरोध किया है।

जिसकी अगुवाई कर रहे उमेश यादव तथा जगदीश वर्मा ने बताया कि पिछले 8 वर्षों से ऊर्जा मित्र के रुप में महज 6 से 7 हजार के मामूली मानदेय पर काम करते आ रहे हैं। पर जब से ईएमडीईईडीजी कंपनी आई है, हम कर्मियों के साथ सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। कहा कि कंपनी के इंचार्ज द्वारा हम लोगों से 15 हजार की मांग की जा रही है साथ ही हम लोगों को मिलने वाले मानदेय में भी कटौती करने की बात कही जा रही है। 15 हजार राशि जमा नहीं करने पर हटा देने की धमकी दी जा रही है। जबकि पिछले 6 माह से हम लोगों का मानदेय को भी रोक दिया गया है। जिससे लॉकडाउन के दौरान परिवारी स्थिति बदतर होते जा रही है। नाराज ऊर्जा मित्रों द्वारा धनवार स्थित पावर हाउस मैदान में बैठक आयोजित कर कंपनी के रवैया के खिलाफ आंदोलन करने की रणनीति बनाई गई है। झारखंड की गरीब कर्मियों को शोषण करने वाले कंपनी को झारखंड से हटाया जाए। इस दौरान संतोष वर्मा, संजीव शर्मा, उमेश, जगदीश, मंटू शर्मा, रोशन आदि थे।

खबरें और भी हैं...