पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दवाओं की आपूर्ति:लेबर यूनियन ने अस्पताल में किया प्रदर्शन, कहा- मरीजों और परिजनों के साथ अस्पताल प्रबंधन नहीं करते कुशल व्यवहार

मिहिजाम5 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

इंजीनियर छात्रा स्नेहा के निधन के मामले को लेकर सीटू समर्थित लेबर यूनियन ने चितरंजन रेलवे के स्वास्थ्य क्षेत्र से जुड़े सभी श्रमिकों की नियमित काउंसलिंग की मांग की है। रोगी और उसके परिवार के साथ उचित व्यवहार के मामले में यह परामर्श बहुत आवश्यक है। केजी अस्पताल की लापरवाही से हुई स्नेहा की मौत के बाद लेबर यूनियन नेताओं ने कहा कि यह आखिरी घटना होनी चाहिए।

सीएलडब्ल्यू लेबर यूनियन ने अस्पताल की ज्वलंत समस्याओं पर प्रदर्शन कर चिरेका के जीएम तथा सीपीओ को 7 सूत्री मांगों से सम्बंधित एक ज्ञापन सौंपा। यूनियन की ओर से राजीव गुप्ता, आरएस चौहान ने मांग की कि इस अस्पताल में तत्काल प्रधान मुख्य चिकित्सा अधिकारी की नियुक्ति की जाए। अभी डॉ. अभिजीत संतरा अस्थायी रूप से इस जिम्मेदारी को संभाल रहे हैं। लेकिन उन्हें इस प्रशासनिक जिम्मेदारी को संभालने के लिए ऑपरेशन थिएटर जाने का समय नहीं मिल रहा है

जिसके चलते इस अस्पताल में लंबे समय से सभी ऑपरेशन बंद हैं। इस वजह से कई मरीजों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इसके अलावा आवश्यक दवाओं की आपूर्ति नहीं होने के कारण मरीजों को दिन-ब-दिन दवा लेने के लिए इधर-उधर जाना पड़ता है। दवाओं की आपूर्ति और वितरण को तत्काल ठीक करने की मांग की।

साथ ही आरोप लगाया गया है कि यहां मरीजों को रेफर करने में अत्यधिक भेदभाव किया जाता है। हालांकि सबसे मुश्किल रवैया स्नेहा की मौत के बाद अस्पताल की लापरवाही का हवाला देते हुए अपनाया गया है।ज्ञापन में कहा गया है कि इस अस्पताल के कुछ कर्मचारी गैर जिम्मेदार, असंवेदनशील, गुस्सैल और बेहद एकतरफा हैं। वे कॉल का जवाब नहीं देते हैं। रोगियों और उनके परिवारों के साथ अवमानना ​​​​करते हैं।

खबरें और भी हैं...