हादसा:हाईटेंशन तार की चपेट में आने से मौत के बाद 2 घंटे सड़क जाम

नाला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आश्रित को आपदा प्रबंधन से दी जाएगी 4 लाख की मुआवजा
  • ग्रामीणों का तर्क- बिजली विभाग की लापरवाही से हादसा

नाला थाना क्षेत्र के मालडीहा गांव में अहले सुबह करीब पांच बजे हाईटेंशन तार के चपेट में सव्यसाची चांदर (45) की मौत हो गई है। अपना घर के पीछे वह शौच के लिए गए थे जहां पूर्व से ही धाराप्रवाहित हाईटेंशन तार टूटकर गिरा हुआ था। इस घटना में गृहस्वामी की मौत से मृतक के परिजन सहित स्थानीय नागरिक बिजली विभाग की कार्यशैली से काफी आक्रोश है।

पीड़ित परिवार ने बताया कि सब्यसाची घर में कमाने वाला एकमात्र था उसकी मृत्यु के बाद परिवार में दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। स्थानीय लोगों ने बताया कि गांव के पास से गए उक्त जर्जर तार को हटाने की मांग ग्रामीणों द्वारा वर्षों से कर रहे थे मगर विभाग द्वारा कोई कार्यवाही नहीं किए जाने से इस प्रकार की घटना हुई है। बताया कि एजेंसी के द्वारा मनमाने तरीके से काम करने का यह नतीजा है।

दुर्घटना की खबर फैलते ही भाजपा एवं भाकपा समेत स्थानीय लोग सड़क पर उतर आए। ब्लॉक मोड़ के पास दुमका-नाला-आसनसोल मुख्य सड़क को जाम कर दिया जिससे लगभग दो घंटे तक वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई है। सड़क जाम की वजह से दोनों ओर से वाहनों की लंबी कतार लग गई जिससे लगभग 2 घंटे तक लोगों को परेशानी झेलना पड़ा।

सड़क जाम के दौरान जमकर हो रही बारिश के बावजूद भी लोग धरना पर डटे रहे और मुआवजा की मांग कर रहे थे। भाजपा नेता सह पूर्व कृषिमंत्री सत्यानंद झा एवं भाकपा के जिला सचिव कन्हाई माल पहाड़िया के नेतृत्व में उपस्थित लोग मुआवजा तथा आवश्यक कार्रवाई की मांग में डटे रहे। पूर्व कृषि मंत्री ने कहा कि 72 घंटे के भीतर अगर दोषी के खिलाफ कार्रवाई शुरु नहीं हुई तो आंदोलन किया जाएगा।

पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपए देने की मांग

इस संबंध में पहाड़िया ने कहा कि बिजली विभाग की लापरवाही से यह दुर्घटना घटी है। पीड़ित परिवार को दस लाख मुआवजा देने की उन्होंने मांग की है। क्षेत्र से गुजरने के दौरान पूर्व मंत्री लुईस मरांडी के घटनास्थल पर पहुंची और पीड़ित परिवार को सरकार द्वारा हर संभव मदद करने की मांग की।

पुलिस के आश्वासन के बाद सड़क जाम समाप्त

इस दुर्घटना एवं सड़क जाम की सूचना मिलते ही पुलिस निरीक्षक रंजीत कुमार सिन्हा, प्रखंड विकास पदाधिकारी कौशल कुमार एवं थाना प्रभारी अजित कुमार ने मोर्चा संभाला। बीडीओ ने तत्काल दस हजार रुपये पीड़ित परिवार को प्रदान की। उनके द्वारा निर्धारित राशि जल्द भुगतान करने तथा बिजली विभाग के खिलाफ कार्रवाई होने का आश्वासन के बाद सड़क जाम हटा।

खबरें और भी हैं...