भाई दूज:भाइयों को मिलती है परेशानियों से मुक्ति

नारायणपुर25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

भाई दूज का पर्व भाई और बहन के अटूट प्रेम का रिश्ता माना गया है यह पर्व कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को मनाया जाता है कि इस दिन सभी बहनें तैयार होकर भाई की आरती उतारकर माथे पर तिलक लगाकर उनकी लंबी उम्र, स्वस्थ जीवन के लिए यमराज और चित्रगुप्त से प्रार्थना करती हैं।

मान्यताओं के अनुसार यमुना ने अपने भाई यमराज को इस दिन अपने घर बुलाकर भोजन कराया था यमुना के सत्कार से प्रसन्न होकर यमराज ने वरदान दिया था कि जो व्यक्ति इस तिथि को यमुना नदी में डुबकी लगायेगा और यमराज का पूजन करेगा उसे परेशानियों से मुक्ति मिलेगी।

खबरें और भी हैं...