प्रवेश के लिए न्यूनतम एक डाेज वैक्सीन की शर्त:20 अक्टूबर से लौटेंगे प्री फाइनल ईयर के 2000 छात्र, ऑनलाइन ही चलेंगी आईआईटी की कक्षाएं

धनबाद2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आईआईटी ने बीटेक, एमटेक, एमएससी टेक, एमबीए स्टूडेंट्स को कैंपस लौटने का भेजा न्योता। - Dainik Bhaskar
आईआईटी ने बीटेक, एमटेक, एमएससी टेक, एमबीए स्टूडेंट्स को कैंपस लौटने का भेजा न्योता।

आईआईटी आईएसएम, धनबाद के प्री फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स भी अब कैंपस लाैट आएंगे। संस्थान प्रबंधन ने बीटेक, एमटेक, एमएससी टेक, एमबीए के संबंधित छात्र-छात्राओं काे 20 अक्टूबर काे रिपाेर्ट करने का निर्देश दिया है। इधर, स्टूडेंट्स के लाैटने काे लेकर हाॅस्टल परिसर की साफ-सफाई की जा रही है। कमराें सहित हर जरूरी स्थानाें काे सेनेटाइज किया जा रहा है।

प्रबंधन ने यह भी स्पष्ट कर दिया है कि स्टूडेंट्स अपने रिस्क पर संस्थान लाैट सकते हैं। फिलहाल कक्षाएं ऑनलाइन ही संचालित हाेंगी। मतलब स्टूडेंट्स हाॅस्टल में रहेंगे और वहीं से अपने लैपटाॅप, डेस्कटाॅप, टैब आदि से क्लासेज करने हाेंगे। अभी ऑनलाइन कक्षा के संचालन पर प्रबंधन ने अनुमति नहीं दी है। सनद हाे कि स्टूडेंट्स लंबे समय से प्रबंधन से कैंपस बुलाने की मांग कर रहे थे। अब तक फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स ही संस्थान लाैटे हैं।

जनता कर्फ्यू के साथ ही बंद हो गया था कैंपस

काेविड-19 काे लेकर जनता कर्फ्यू के साथ ही कैंपस बंद हाे गया था। सभी छात्र-छात्राओं काे लाैटा दिया गया था। अब करीब 20 महीने बाद बीटेक तृतीय वर्ष सहित सभी काेर्स के प्री फाइनल ईयर के लगभग 2 हजार स्टूडेंट्स संस्थान लाैटेंगे। बीटेक तृतीय वर्ष के स्टूडेंट्स ने कैंपस बुलाने काे लेकर साेशल मीडिया पर अभियान भी चलाया था।

वापसी के बाद एक सप्ताह क्वारेंटाइन में रहेंगे स्टूडेंट्स

कैंपस पहुंचने के बाद प्री फाइनल ईयर के स्टूडेंट्स काे अपने हाॅस्टल के कमराें में एक सप्ताह के लिए क्वारेंटाइन में रहना हाेगा। इस अवधि के पूरा हाेने के बाद भी स्टूडेंट्स कैंपस में आवाजाही कर पाएंगे।

अपने रिस्क पर वापस लौटने की देनी होगी अंडरटेकिंग

कैंपस लौटने के लिए वैक्सीन का न्यूनतम एक डोज अनिवार्य हाेगा। काेराेना संक्रमण की तीसरी संभावित लहर के मद्देनजर प्रबंधन ने कैंपस लाैटने के लिए वैक्सीन की न्यूनतम एक डाेज काे अनिवार्य किया है।

द्वितीय वर्ष के छात्रों ने नहीं देखा आईआईटी

बीटेक द्वितीय वर्ष के छात्र-छात्राएं भी कैंपस बुलाने की मांग कर रहे हैं। विद्यार्थियाें का कहना है कि ऑनलाइन एडमिशन हुआ और पढ़ाई भी ऑनलाइन ही हाे रही है। आईआईटी कैसा हाेगा, यह हर दिन बस कल्पना ही कर पाते हैं। ऑनलाइन पढ़ाई से इंजीनियरिंग संभव नहीं लगता है। स्टूडेंट्स ने 14 सितंबर काे ट्विटर पर पीसफुल प्राेटेस्ट भी किया था।

खबरें और भी हैं...