पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

चुनाव:धनबाद कोल कर्मचारी साख सहयोग समिति लिमिटेड के चुनाव में 49% वोटिंग, देर रात तक चलती रही काउंटिंग

धनबादएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • रात 1:10 तक तीसरे दौर में गणेश से आगे थे राम नारायण
  • अध्यक्ष पद पर सीधी टक्कर, तो सचिव के लिए चार दावेदारों में हुई जोर आजमाइश
  • कार्यकारणी समिति सदस्य के 18 पदाें के लिए चुनाव मैदान में थे 43 उम्मीदवार

धनबाद कोल कर्मचारी साख सहयोग समिति लिमिटेड की कार्यकारिणी के पुनर्गठन के लिए बुधवार को वोटिंग हुई। कुल 4431 मतदाताओं में से 2155 (करीब 49%) ने मताधिकार का प्रयोग किया। वोटिंग के बाद रात में मतगणना की प्रक्रिया शुरू हुई। रात एक बजे तक तीसरे दौर की काउंटिंग में अध्यक्ष पद पर राम नारायण प्रसाद ने गणेश भुइयां पर बढ़त बना रखी थी। वहीं, सचिव पद के लिए चार दावेदारों में से कैलाश राय और अरविंद कुमार सिंह के बीच कांटे की टक्कर चल रही थी। कोषाध्यक्ष पद के दावेदार संजीत सिंह ने अर्जुन सिंह पर बढ़त बना ली थी।

जगजीवन नगर के चिल्ड्रन पार्क में चुनाव पदाधिकारी दीपक कुमार की देखरेख में सुबह 9:00 बजे बैलट पेपर से मतदान की प्रक्रिया से शुरू हुई। अपने पसंदीदा पदाधिकारियों के चयन के लिए मतदाता सुबह से ही कतारबद्ध होकर अपनी बारी का इंतजार करते रहे। शांतिपूर्ण चुनाव के लिए मतदान केंद्र के पास पुलिस बल की तैनाती की गई थी। दिन चढ़ने के साथ मतदान में तेजी अाई। सीबीआई आवासीय परिसर से लेकर कल्याण भवन तक दोनों किनारे वाहनों की लंबी कतार लगी रही। उम्मीदवारों के पंडाल में दिनभर गहमागहमी रही।

अध्यक्ष पद के लिए निवर्तमान गणेश भैया और राम नारायण प्रसाद में सीधा मुकाबला था। वहीं, सचिव पद के लिए चार उम्मीदवार जाेर आजमा रहे थे- निवर्तमान कैलाश कुमार राय, अरविंद कुमार सिंह, कुलवंत सिंह और जीतेंद्र कुमार राय। कोषाध्यक्ष पद के लिए अर्जुन कुमार सिंह और संजीव कुमार सिंह के बीच टक्कर रही। कार्यकारणी समिति सदस्य के 18 पदाें के लिए 43 उम्मीदवार मैदान में थे।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें