साइबर अपराध:साइबर अपराधियाें पर 73 मामले दर्ज लाेगाें से की थी कराेड़ाें रुपए की ठगी

धनबाद7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • पकड़े गए 13 साइबर ठगों काे प्राेडक्शन वारंट पर लेने काे धनबाद पहुंची तेलांगना पुलिस

बेकारबांध काली मंदिर राेड में शंकर कॉलाेनी स्थित अपना बसेरा अपार्टमेंट से पकड़े गए दाे नाबालिग सहित 13 साइबर अपराधियाें के खिलाफ तेलांगना में 73 मामले दर्ज हैं। तेलांगना के रहने वाले साइबर अपराधी वहीं के रहने वाले लाेगाें काे लाेन अप्रूव कराने के नाम पर कराेड़ाें रुपए की ठगी की है। साइबर अपराधियाें काे प्राेडक्शन वारंट पर लेने पहुंची तेलांगना पुलिस ने इसका खुलासा किया है।

धनबाद ने पुलिस 19 सितंबर काे साइबर अपराधियाें काे गिरफ्तार किया था। तबसे सभी जेल में बंद हैं। मामले में सदर पुलिस ने तेलांगना पुलिस से संपर्क किया, ताे उनके खिलाफ मामला दर्ज हाेने की बात सामने आई। इसके बाद तेलांगना काेर्ट से जेल काे प्राेडक्शन के लिए वारंट भेजा। इधर, बुधवार काे उक्त साइबर अपराधियाें काे जमानत मिल गई है, लेकिन बेलबांड नहीं भरा गया था। इसी बीच तेलांगना पुलिस धनबाद पहुंची और काेर्ट में प्राेडक्शन वारंट के लिए आवेदन दिया।

साइबर अपराधियाें काे धनबाद पुलिस की सुरक्षा में तेलांगना ले जाया जाएगा। पकड़े गए अपराधियाें ने खतरावत राजू नायक, कतरावथ संताेष, खेतावत राजू, मुरावथ गणेश, देगावथ श्रीनिवासुल्लू, ई गणेश, कथावत राजू कुमार, मुदावथ वेंकटेश, काटरावथ रावत हरिलाल, काटरावथ गणेश, रतलावत कृष्णा नायक व दाे किशाेर शामिल हैं। सभी तेलंगना के पेडामंडाडी के गांवाें के रहनेवाले हैं।

जब्त माेबाइलों की जांच में खुले राज
सदर पुलिस ने पकड़े गए साइबर अपराधियाें के पास से 24 माेबाइल, दाे लैपटाॅप के साथ 11 डायरियां जब्त की हैं। जब्त माेबाइल के माध्यम से ही तेलांगना के लाेगाें काे ठगी का शिकार बनाया गया है। तेलांगना में दर्ज प्राथमिकी में उक्त माेबाइल नंबर दर्ज हैं। जिसके आधार पर तेलांगना पुलिस कार्रवाई कर रही है। इस बात की भी जानकारी मिली है कि पकड़े गए साइबर अपराधियाें का गैंग पहले बैंक माेड़ में संचालित था। माेबाइल लाेकेशन से इस की पुष्टि हुई है।

सरगना की पुलिस कर रही है तलाश
तेलांगना के साइबर अपराधियाें काे बुलाने वाला विक्रम नामक सरगना है। विक्रम के साथ उसका साला अविनाश व गया का कुंदन के शामिल हाेने की बात भी जांच में सामने आई है। विक्रम ही अपने काे बिजली का ठेकेदार बताकर अपार्टमेंट में फ्लैट किराए पर लिया था। उक्त साइबर अपराधी फ्लैट में काॅल सेंटर चलाते थे। आंध्र व तेलगांना के लाेगों से ऑनलाइन ठगी करते थे।

खबरें और भी हैं...